ट्यूशन वाली दीदी की चुत चाट कर आया !! भाग-1 😛

दीदी मुझे हसकर देखने लगी तो मैं उनकी पजामी खींच कर उतार दिया। मेरा नाम अभिषेक है और मैं 11 क्लास में पढ़ता हूँ  मेरी उम्र 21 साल है और मैं करीब 3 बार स्कूल में फ़ैल हो चूका हूँ। इसलिए अगर मेरी hindi sex kahani में आपको गलतिया मिले तो माफ़ करना।  

मैं अक्सर अपने माँ बाप से मार खाया करता था क्यों की मैं पढाई में कुछ खास अच्छा नहीं था। इसलिए मेरे माप ने मुझे जबरदस्त छोटे बच्चों के ट्यूशन में डाल दिया ताकि मुझे शर्म के मारे अपनी लापरवाही का एहसास हो। 

मैं 3 दिन तक ट्यूशन गया जहा एक 25 साल की सेक्सी लड़की छोटे स्कूल के बच्चों को पढ़ाया करती। ऐसी मजेदार शरीर वाली लड़की को तो मैं कभी दीदी न बोलू पर पापा की वजह से मुझे बोलना पड़ा। दीदी को टाइट कपड़े और जीन्स पहना पसंद था। दीदी अपनी मोटी गांड किसी तरह टाइट जीन्स में फसा कर हमे पढ़ाया करती। टाइट टशीट से उभरते थान मुझे हर दिन कामुक कर देते। उनकी आधी दिखती स्तनों की दरार देख मैं रोज ट्यूशन के बाद मुठ मारता। 

रोज रोज दीदी की याद में लंड हिला हिला कर मैं कमजोर होने लगा और मुझे हार मानकर कोई न कोई फैसला लेना पड़ा। या तो मैं ट्यूशन जाना छोड़ देता और या तो मैं दीदी को चोद देता इसके अलावा मेरे पास कोई चारा नहीं था। दीदी को चोदने जैसा काम तो मैं अपने सपनो में ही कर सकता था इसलिए मैं ट्यूशन जाना ही छोड़ दिया।  

अब जब पापा को पता लगा तो उन्होंने मेरा मार मार कर भरता बना दिया और अगले दिन मुझे फिर ट्यूशन जाना पड़ा। अब दोस्तों 2 दिन जाने के बाद मैंने हिमत जुटा कर दीदी को अपने दी की बात लिख कर दे दी। 

मैं कागज पर लिखा “दीदी मैं जब आपको पहली बार देखा था तभी मैं आपसे प्रेम कर बैठा था !! मुझे आप काफी पसंद हो क्या आप मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी ?”

दीदी ने मेरी दिल की बात पढ़कर हसने लगी और मुझव देखने लगी। मुझे लगा दीदी ने हाँ करदी पर ऐसा नहीं था। सबके जाने के बाद मैं दीदी के पास गया और उसने कहा “तो अपने क्या सोचा ?”

दीदी – देखो अभिषेक यहाँ मैं बस ट्यूशन पढ़ती और इसके अलावा मुझ से और कुछ उम्मीद मत रखना वरना मैं तुम्हारी पापा को सब बता दूगी।   

उसके बाद दीदी चली गई और मैं भी उदास होकर घर चला गया। अगले दिन दीदी ने सेक्सी पजामी और सूट पहना था। उनका देसी रूप देख मैं फिर ऊके लिए गंदा सोचने लगा। उस दिन दीदी का मूड कुछ अलग था। हम नीचे चटाई पर बैठ कर पढ़ते थे और दीदी ऊपर सोफे पर बैठ कर हमे पढ़ती। उस दिन दीदी तक फ़ोन में कुछ देखती रही। 

उन्होंने फ़ोन टेढ़ा करके पकड़ा था जिस से साफ पता लग रहा था की वो कोई वीडियो देख रही है। इसी दौरान मैं सबसे पीछे बैठा अपना लंड पजामे के ऊपर से ही सहलाने उनकी सेक्सी फिगर को देकता रहा। 

देखते ही देखते दीदी अपनी जाँघे आपस में धीरे धीरे रगड़ने लगी। जिस तरह से वो फ़ोन में देख रही थी मुझे ऐसा लगा जैसे वो कोई गन्दी फिल्म देख रही हो। उस दिन दीदी सभी बच्चो को टेस्ट दिया था। जैसे जैसे बच्चे अपना टेस्ट पूरा करते गए वो एक एक करके वहा से जाने लगे। 

अंत में मैं बच्चा। मुझे पता था की दीदी क्या देख रही है इसलिए सब बच्चो के जाने के बाद मैं भी अपनी टांगे खोल कर बैठ गया और दीदी को मेरा खड़ा लिंग दिखने लगा। 

दीदी मेरे लंड को देख मुस्कुराई और मैं उसे हाँ समज लिया। मैं जल्दी से आगे गया और दीदी की पजामी खींच पर उतार दिया। दीदी हैरानी से मुझे देखने लगी और मैं  चुत देख हकाबका रह गया। 

दीदी शर्म से अपना मुँह परे कर के बैठी रही और मैं उनकी कच्छी के अंदर अपना हाथ गुसा लिया।    

अंदर हाथ घुसा कर मुझे उनकी झांटे महसूस होने लगी जो काफी बड़ी बड़ी थी। मैं अपने ठन्डे हाथो से दीदी की गर्म चुत को सहलाने लगा और मेरा लंड टोपे से गीला हो गया। दीदी की बुर पहले से ही गीली थी। 

अपना लंड खड़ा करने के लिए हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करे !!

follow antarvasnastory on instagram

मैं धीरे धीरे उनकी जाँघे अंदर से चूमे लगा और दीदी को और गीला करने लगा। 

दीदी पहले तो शर्म से मुझ से आंखे नहीं मिला रही थी पर जैसे ही मैं उन्हें कुश करने लगा वो अपनी प्यारी आँखों से मुझे गन्दा काम करते देखने लगी। 

मैं अपने हाथो से उनकी टांगे पकड़ा और उन्हें धीरे से सहलाता रहा। दीदी की टांगे काफी मोटी और सेक्सी थी। 

मैं इसी तरह दीदी को छूने के बाद और दीदी ने अपनी कच्छी खुद उतारी और मेरे सामने अपना भोसड़ा खोल कर बैठ गई। दीदी ने अपनी दो उंगलियों से अपनी चुत खोली और मुझे देखने लगी। 

चुत देख कर मेरा उसे चाटने का दिल करने लगा। 

दीदी ने अपनी ऊँगली से सारी झांटे अगल बगल की और मेरी जुबान के लिए रास्ता साफ कर दिया। मैं आगे पढ़कर अपनी जुबान निकाला और धीरे धीरे दीदी की गर्म चुत को अपनी लार टपकाती जुबान से चाटने लगा। 

देखते ही देखते दीदी की सासे तेज हो गई और वो अपनी फूली हुई छाती को और फुला कर कर गहरी सासे लेने लगी। 

उनका सेक्सी रूप देख मैं भी पागल सा होने लगा और अगले ही पल मैं उसके सूट में हाथ घुसाया और उनके दोनों दूध पकड़ कर अंदर ही अंदर दबाने लगा। 

चुत चाट चाट कर मैं पूरा मजा लेने लगा और दीदी को भी अपने जालिम हाथो से जकड़ लिया। 

उसके बाद मैं अपना लंड बाहर निकाला और दीदी के सामने खड़ा हो गया। दीदी मेरा लंड देखने लगी और ऐसा बर्ताव करने लगी जैसे उन्होंने लंड कभी देखा ही नहीं था। 

उसी वक्त मेरी नजर उनके बगल में पड़े फ़ोन पर गई जिसमे सेक्सी पोर्न वीडियो चल रही थी। उसमे एक अंग्रेज अपने बड़े से लंड को एक लड़की में मुँह में डाल कर धके लगा रहा था और लड़की के मुँह से थूक ही थूक निकल रहा था। 

तो दोस्तों ये थी मेरी हिंदी सेक्स कहानी ट्यूशन वाली दीदी की चुत चाट कर आया का पहला भाग दूसरा भाग मैं यही इसी वेबसाइट पर भेजुंगा इसलिए यहाँ फिरसे जरूर आना। 

error: Content is protected !!