लॉकडाउन में ससुर बहुॅ की नंगी चुदाई

ससुर की अंतर्वासना अपनी बहुॅ के ऊपर काफी दिनों से थी। ससुर जिनका नाम रामगोपाल था, उनके इकलौते बेटे ने शादी कर ली थी, लॉकडाउन से एक-दो महीने पहले। जिस लड़की से उनके बेटे ने शादी करी थी वह बहुत ही हॉट और सेक्सी थी। उस लड़की की सुंदरता इतनी मनमोहक थी कि कोई भी उसके प्रति आकर्षित हो जाए। 

और ऐसा ही कुछ हुआ ससुर जी के साथ और उनकी वासना इच्छाएं अपनी बहुॅ के लिए बहुत ही ज्यादा थी।

करोना के चपेट से कोई भी नहीं बचा है और उनके बेटे को भी करोना हो गया। जिसकी वजह से उनका बेटा कोरेंटिन हमें चला गया था कि वह जल्द से जल्द ठीक हो सके।

परंतु हरामि ससुर को अपने बेटे से ज्यादा अपनी वासना की परवाह थी। और रामगोपाल मौके ढूंढता रहता था कि किसी तरह वह “लॉकडाउन में ससुर बहुॅ की नंगी चुदाई” के कांड को अंजाम दे सकें।

उसकी बहुॅ जब काम करती थी तो रामगोपाल बैठकर उसको घूरता रहता था। बहुॅ के बड़े बड़े स्तन बहुत ही सुंदर और नरम-नरम थे। जब वह पोछा लगाने के लिए झुकती थी तब उसका पल्लू गिर जाता था और उसके बड़े बड़े स्तन ब्लाउज से बाहर दिखने लगते थे।

रामगोपाल वही बैठा रहता था अखबार पढ़ने के बहाने और अपनी बहुॅ को हवस की नजरों से देखता रहता था। वह हवस में इतना डूबा हुआ था, कि अखबार के पीछे से अपने पजामे में हाथ डालकर अपना लंड हिलाता था। और तो और वह रात को Baap Beti Sex Stories भी पढ़ता था और यह सोचता था कि ससुर बहु की नंगी चुदाई में कितना मज़ा आएगा।

रामगोपाल के बेटे की नई नई शादी हुई थी जिसकी वजह से दोनों में कामवासना की इच्छा भी ज्यादा थी। लेकिन दुर्भाग्य से उसके बेटे को कोरोना हो गया और वह 10 दिन से कुरेंटीन में बंद है। और उसकी नई-नवेली यहां अंतर्वासना की इच्छाओं में डूबी जा रही थी। रामगोपाल को यह बात पता थी और उसने इसी बात का फायदा भी उठाया।

जब एक रात रामगोपाल की बहुॅ कामवासना से भर गई थी। तो वह अपने कमरे में स्वयं संतुष्टि कर रही थी। वो अपने बड़े-बड़े सुंदर स्तनों को अपने ही हाथों से दबा रही थी। और अपनी चूत को सोरा रही थी और उसमें उंगलियां दे रही थी। रामगोपाल चुपके से दरवाजे के पीछे से यह सब देख रहा था।

वह अचानक ही दरवाजा खोल कर अंदर चला गया और बोला – बहुॅ यह सब क्या कर रही हो?

बहुॅ को कुछ भी समझ नहीं आया और वह शर्मसार हो गई।

उसने बोला – पिताजी क्या करूं मैं जवान लड़की हूं, और मेरा पति कई दिनों से बाहर है हमारी नई नवेली शादी हुई है, तो मुझे स्वयं को ही संतुष्टि लेनी पड़ेगी ना?!!

रामगोपाल बोला – अगर ऐसी बात थी तो तुमने मुझसे क्यों नहीं कहा।

बहुॅ हैरान होते हुए – मैं आपसे क्यों कहती, आप तो मेरे ससुर जी हो।

रामगोपाल – ससुर हूं… लेकिन तुम्हारे पति का बाप भी हूं, हम दोनों में कोई ज्यादा फर्क नहीं है।

बहु ने बोला – मुझे पता है, आप मुझे अखबार के पीछे से काम करते हुए देखते हो।

लेकिन आपके साथ में यह सब नहीं कर सकती।

रामगोपाल बोला – अगर ऐसी बात है तो जब मेरा बेटा आएगा, तो मैं उसे सब बता दूंगा,  कि कैसे तुम अपनी चूत में उंगली कर रही थी।

और वह यह सोचेगा कि तुम कैसी बदचलन औरत हो जो वासना की भूखी है।

बहु थोड़ा सोच में पड़ गई और घबरा भी गई।

बाद में, उसने हां बोल दिया!!

बहुॅ की हामी भरते ही रामगोपाल उसके गले लग गया। और वह बहुॅ के बड़े-बड़े चुँचो में अपना चेहरा रगड़ने लगा  और साथही उनको जोर जोर से दबाने भी लगा। रामगोपाल पुरी हवस में था और वह बहुॅ के स्तनों को खूब चाट रहा था और चूस रहा था।

बहुॅ बोली – ससुरजी आराम से दर्द हो रहा है….

परंतु रामगोपाल ने उसकी एक न सुनी और उसने बहुॅ को लिटा दिया फिर उसके सारे कपड़े उतार दिए। बहुॅ का हॉट और सेक्सी बदन देखकर रामगोपाल का लंड पूरा खड़ा था। उसकी बहुॅ का फिगर इतना मनमोहक था जिसे देखकर रामगोपाल के लैंड से पानी टपकने लगा।

रामगोपाल ने अपना पजामा खोला और अपना लंड बाहर निकाला।

बहु रामगोपाल के लंड को देखकर हैरान रह गई!!!

उसने बोला – अरे बाप रे!! ससुर जी…. आपका लंड कितना लंबा है!!!!

आपने तो बोला था मेरे पति और आप में कोई फर्क नहीं है, लेकिन आप का लंड तो उनसे भी लंबा है।

रामगोपाल ने बहु की दोनों टांगों को ऊपर किया और अपना डंडे जैसा लंबा लंड धीरे-धीरे बहुॅ की चूत में घुसाने लगा।

बहु बोलने लगी – धीरे, ससुर जी.. आपका लैंड बहुत लंबा है।

धीरे-धीरे हरामी रामगोपाल ने अपना पूरा लंड बहुॅ की चूत में घुसा दिया। और बहु बहुत ही जोर से चीख पड़ी और बोलने लगी – “आह्ह….!!!!! ससुर जी…. अपना लंड, बाहर निकालो पर दर्द हो रहा है”।

परंतु रामगोपाल अपनी वासना में पूरा डूबा हुआ था और वह sasur bahu ki nangi chudai जोर-जोर से कर रहा था। सास बहुॅ की चूत को अपने लंड से चोदा ही जा रहा था। 

और साथ ही के बड़े-बड़े स्तन को भी पी रहा था। हमको बहुत ही ज्यादा दर्द हो रहा था और वह अपने सिर को बार-बार दाएं-बाएं कर रही थी – आह! आ! आ! आ!! अम्म!!! आह!!!!

बाद में कामुकता बहुॅ के ऊपर भी झड़ गई और उसे भी मज़ा आने लगा।

बहु – हो ससुर जी आप का लंड तो आपके बेटे से भी अच्छी चुदाई कर रहा है….

चोदो.. ससुर जी… अपनी सेक्सी बहु को चोदा, उसको चरम सुख की प्राप्ति करा दो…..

यह सुनकर रामगोपाल और भी ज्यादा बावला हो गया और मैं पागलों की तरह बहुॅ को चोदने लगा।  वे उसे घचाघच और दबा-दबा कर चले ही जा रहा था। अपने लंड से ससुर बहुॅ की चुदाई कर रहा था। बस की ऐसी जबरदस्त चुदाई कर रहा था जैसी वह Desi Sex Stories में पढ़ता था।

और बस कुछ ही शरण में रामगोपाल ससुर बहु की नंगी चुदाई करने से उसका झड़ने वाला था, तो उसने अपनी रफ्तार और बढ़ा दी। और वह अपनी सुंदर बहुॅ को और भी ज्यादा प्रचंड तरीके से चोदने लगा। बहुॅ को भी बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था इतनी प्रचंड चुदाई पाकर। और कुछ ही क्षण बाद दोनों को चरम सुख की प्राप्ति होने वाली थी।

बहुॅ ने बोला ससुर जी मेरी चूत में मत झारना, सारा माल मेरे मुह पर निकाल दो।

परंतु ससुर अंतर्वासना में बावला हो गया था और उसे बहुॅ की कोई भी बात समझ नहीं आ रही थी।

बहु फिर से – ससुर जी मेरे अंदर अपना माल मत झाड़ना ससुर जी… आह!!! ससुर जी….

और रामगोपाल ने अपना सारा माल बाबू की चूत में झाड़ दिया। उस का लैंड कितना लंबा था कि उसने बहुत ही गहराई तक बहुॅ की चूत खोदी और अपना सारा माल झाड़ दिया।

रामगोपाल – बहुत मजा आ गया…. मेरी सालों की कामुकता वासना इच्छाएं आज जाकर शांत हुई है।

बहु – ससुर जी आप कितने बड़े मादरचोद हो, मैंने बोला था मेरे अंदर मत झाड़ना…

रामगोपाल माफ कर दो बाबू मैं अंतर्वासना में डूब गया था मुझे बस अपनी कामुकता प्यास ही दिख रही थी।

बहु – हां!!!! आपकी प्यास तो बुझ गई, परंतु, अब आपका बच्चा आपका पोता बनकर पैदा होगा

और आपका बेटा जिसे अपना बच्चा समझेगा, वह आपका बच्चा होगा।

तो कैसे लगी आपको ये अतरंगी मजेदार कहानी? अपने सुझाव हमें कमेंट में जरूर बताये।

Share Story With Friends