हर दिन लॉकडाउन में जबरदस्त चुदाई

ये कहानी सरिता द्वारा भेजी गई है जिसमें उसने बताया की उसका पड़ोसी कैसे अपनी बीवी के साथ हर दिन लॉकडाउन में जबरदस्त चुदाई कर रहा है। अब सरिता ने भाभी की इतनी चुदाई देख खुद शादी न करने का मन बना लिया। सरिता का कहना है की रोज चुदाई की वजह से उसकी पड़ोस की भाभी का फिगर खराब होता जा रहा है। अब सरिता का पड़ोसी कैसे चुदाई कर रहा है ये तो सरिता ने अपनी कहानी में अच्छे से बताया है। 

लॉकडाउन से पहले मेरी शादी पकी हो गई थी और अब मैं दिन रात अपनी होने वाले पति से फ़ोन पर बाते करती रहती थी। एक दिन मैं फ़ोन पर बात करते करते छत पर चली गई। उस दिन मौसम भी काफी अच्छा और हवादार था। 

ठंडी हवा खाते खाते मैं अपने होने वाली पति से रोमांटिक बाते करने में लगाई थी तभी मेरी नजर मेरे घर के ठीक सामने वाले मकान पर पड़ी। 

मेरे सामने वाले पड़ोसी ने छत पर कमरा बना रखा था जिसका दरवाजा तेज हवा के कारण खुल गया। दरवाजा खुलते ही अंदर जो मैंने देखा उसे देखते ही मेरा शादी न करने का मन बन गया। 

मैंने फ़ोन काटा और छज्जे पर खड़ी हो कर और पास से देहने लगी। मैंने देखा की मेरा पड़ोसी अपनी सुंदर बीवी की लॉकडाउन में जबरदस्त चुदाई करने में लगा था। 

भाभी के पहले से ही दो बच्चे थे इसलिए शायद वो उन्हने नीचे सुला कर छत पर जबरदस्त चुदाई कर रहे थे।

वो सेक्स इतने जोरो से कर रहे थे की उन्हें पता ही नहीं चला की दरवाजा हवा से कब खुला और उन्हें कौन देख रहा है। मुझे भाभी का चेहरा नहीं दिख रहा था क्यों की वो बिस्तर पर घोड़ी बनी हुई थी। साथ ही पीछे से उनका पति अपने खड़े लिंग से उनकी चुदाई कर रहा था। अब वो गांड चोद रहा था या चुत ये तो मुझे नहीं पता पर वो काफी जोर से भाभी की मुलायम गांड पर धके लगा रहा था। 

कुछ देर में ही बारिश शुरू हो गई पर मेरा उनकी चुदाई और देखने का मन बना हुआ था। बारिश तेज नहीं थी इसलिए कमरे में जो चल रहा था मुझे सब दिख रहा था। 

उनके हवसी पति ने उन्हें अलग अलग तरह से चोदना शुरू कर दिया। उसने भाभी को खड़ा किया और उनके ब्लाउज में हाथ डाल कर अजीब तरीके से उनके स्तन मसलता हुआ चुदाई करने लगा। 

अब बारिश में खड़े खड़े उन्ही देख मेरी चुत गीली होने लगी। उस वक्त मैं यही सोचने लगी की क्या शादी के बाद मेरा भी यही हाल होगा ? क्या मेरा पति भी मेरे स्तन ऐसे दबा दबा कर मुझे पीछे से चोदेगा ?

किसी और की इतनी जबरदस्त चुदाई देख मुझे मजा आ रहा था। पर जब मेरे दिमाग में आया की ये सब मेरे साथ भी हो सकता है तो मुझे शादी से डर लगने लगा।  

खेर ये सब तो बाद की बात थी और उस वक्त मैं भाभी की चुदाई देख इतनी कामुक हो गई की मैंने छत पर खड़े खड़े अपनी जीन्स में हाथ डाला और अपनी योनी  में ऊँगली करने लगी। 

शर्म तो मुझे काफी आ रही थी पर देसी मोटी भाभी की चुदाई देख मेरे अंदर की अन्तर्वासना बाहर आने लगी। 

मेरी गांड मोटी थी इसलिए जीन्स काफी टाइट थी। मैंने बिना सोचे समझे अपनी जीन्स का बटन खोला और अंदर हाथ डाल कर उनकी चुदाई का कामुक आनंद लेने लगी। वो आदमी अपनी बीवी की चुदाई काफी अच्छे से कर रहा था।  

खड़े खड़े चुदाई के बाद उसने भाभी को अपनी तरफ मुँह कर के खड़ा किया और उनकी एक टांग उठा और उनकी चुत चोदने लगा। भाभी को एक टांग पर खड़ा कर के चोदते हुआ वो कभी भाभी के होठो पर चूमता तो कभी उनके दोनों स्तन। 

बाहर से ठंडी हवा कम में जा रही थी और वो एक दूसरे के गर्म शरीर से लिपटे हुए थे। वो पल भाभी के लिए काफी रोमांटिक रहा होगा पर उनके पति को देख ऐसा लग रहा था की उन्हें तो बस अपनी कामुकता शांत करनी है।   

भाभी ने संभोग करते हुए आने हाथ अपने पति के कंधो पर रखे और चुदाई के दौरान अपने पति का गाला, पीठ और कंधे सहलाती रही। उनका पति काफी यौन उत्तेजित था। वो बार बार भाभी के स्तनों के देखे जा रहा था और उन्हें चूस भी रहा था। 

भाभी के निप्पल्स काले रंग के थे जिन्हे वो लगातार चाटे जा रहा था। अब उनके स्तनों से दूध निकल रहा था की नहीं वो तो मुझे नहीं दिख रहा था। 

पर बारिश में खड़े खड़े मैं तो कामुक थी ही साथ ही मेरी दोनों चुसनी भी कामुक हो उठी। मेरी दोनों चुसनी सख्त हो गई और मेरा उन्हें दबाने और चूसने का दिल करने लगा।  

मैंने अपना दूसरे हाथ से अपनी चुसनी दबाने और खींचने लगी। ये सब करते करते मेरा शरीर कांपने लगा। 

खड़े खड़े चुदाई करने के बाद भाभी नीचे बैठी और अपने पति का लंड चूसने लगी। तभी पति ने उनका सर पकड़ा और उनके मुँह को अपनी कमर हिला हिला कर लंड से चोदने लगा। 

दूर से देखने पर भाभी का शरीर लसलसा लग रहा था। चुदाई से उनकी गांड छूट तो चिकनी होगी ही साथ ही पति के लंड से उनके मुँह में काफी सारा थूक और लंड का पानी जमा हो गया होगा।  

करीब 3 से 4 मिनट मुँह की चुदाई करने के बाद उनका पति रुक गया। भाभी ने धका दे कर उन्हें हटाया और अपने मुँह से सारा लसलसा माल पानी थूक दिया। 

तो बस ये थी मेरे भाभी की चुदाई कहानी। उसके बाद मैं भी बाथरूम में जाकर अपनी वासना को ऊँगली से शांत किया। 

पर उन्दोनो की चुदाई सिर्फ एक दिन की ही नहीं थी वो रोज सेक्स करने लगे। उन्हें देखने के लिए मैं रोज छत पर जाने लगी पर कभी उनकी चुदाई फिर न देख पाई। 

उस दिन कसमत से दरवाजा खुला और मुझे लॉकडाउन में जबरदस्त चुदाई देखने का मौका मिल गया। बस कुछ ही हफ्तों में भाभी का फिगर ख़राब होने लग गया। 

रोज चुदाई और चुसाई से उनकी गांड मोटी और स्तन बड़े होने लग गए। मुझे पका पता है की उनके स्तन बड़े होने के साथ साथ लटक भी गए होंगे। 

जिस वक्त मैं ये कहानी लिख रही थी उस वक्त भी वो दोनों अंधाधुन सेक्स करने में लगे थे। अब चुदाई भाभी अपनी मर्जी से करा रही थी या नहीं ये तो मुझे नहीं पता। पर मैंने उन्हें देख कर शादी न करने का फैसला कर लिया। 

लॉकडाउन और कितना लम्बा होगा किसी को नहीं पता। और अब हर दिन भाभी की गांड उनका पति अलग अलग तरीको से चोदता है। 

अगर कहानी अच्छी लगी तो कमेंट में जरूर बताना।