गांडू दोस्त की चुदाई कहानी 😝

जब अंकुर अपने ही गे दोस्त के पिछवाड़े में लिंग घुसाने लगा तो उसे वो आनंद आया जो आपको अंकुर की ये सेक्स कहानी पढ़कर प्राप्त होने वाला है।

नमस्कार दोस्तों मैं अंकुर एक बार फिर हाजिर हूं एक नई अन्तर्वासना स्टोरी के साथ, यह कहानी मेरे एक गांडू दोस्त रोहित के बारे में है! हालांकि शुरू शुरू में मुझे नहीं पता था कि वह एक गांडू है, अब जिन लोगों को गांडू ना पता हो मैं बता दूं बहुत ही समरी के अंदर कि वह यह

वह लोग होते हैं जिन्हें अपनी गांड मरवाना पसंद होता है! इस लिए मेरी gay sex story in hindi का नाम गांडू दोस्त की चुदाई कहानी है उम्मीद है आपको पसंद जाएगी। 

जब हम उसके साथ क्रिकेट खेलते थे तब हमें यह बात पता नहीं चली थी कि हमारा दोस्त इस तरीके का होगा, हालांकि उसकी हरकतें

तब भी कुछ अजीब थी जैसे कि वह लड़कों का हाथ पकड़ पकड़ कर चलता था और हम से चिपक चिपक कर चलना था! शुरू में हमें

इसका बर्ताव अजीब नहीं लगता था लेकिन जैसे हम बड़े होते गए उसकी हरकतें ही ऐसी ही रही और हमें उस पर शक होने लगा!

बड़ा भाई बॉडी बिल्डर अंकल का लंड चूसते थे !!

हालांकि उसने कभी दोस्तों के बीच में इन सब चीजों का जिक्र नहीं किया ना ही हमारे किसी दोस्तों पर ट्राई करने की कोशिश की है

तो हम कभी भी यह उसके बारे में सबूत से नहीं कह सकते थे कि वह एक गांडू था, या उसे लड़कों में इंटरेस्ट था!

तो हुआ ऐसा था, रोहित एक अमीर टाइप का लड़का था उसके घर में बड़ा वाला टीवी था, अक्सर हम दोस्त उसके घर पर उसके वहां

टीवी देखने के लिए जाते थे! तो एक दिन मैं उसके घर पर रात में रुक गया था क्योंकि उसके घर पर कोई भी नहीं था, क्योंकि रोहित

के घर के करीब सबसे करीब में ही रहता था तो मुझे इस बात की कोई टेंशन नहीं थी अगर मेरे घर वाले मुझे बुला भी लेते तो मेरा

घर उसके घर से मात्र 15 मिनट की दूरी पर था!

हमें मूवी देखते देखते रात के 10:00 बज गए थे, तब उसने मुझे बोला कि अंकुर मैं तुझे एक चीज दिखाता हूं! और उसने अपने बैग से

अपना लंड खड़ा करने के लिए हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करे !!

follow antarvasnastory on instagram

पेनड्राइव निकाली और उस पेनड्राइव को अपने टीवी में कनेक्ट कर दिया! जैसे ही वो मूवी थोड़ी सी आगे बढ़ी मुझे समझ में आ गया

कि यह नॉर्मल पोर्न नहीं है यह तो गे पोर्न है!

पहले मैने पत्नी को चोदा… फिर पति ने मुझे चोदा!!

मैं थोड़ा सा असहज महसूस कर रहा था और यह देखकर रोहित मेरे से बोला क्या हुआ तूने कभी ये वाला पोर्न नहीं देखा क्या, मैं मुह

फुलाता हुआ बोला नहीं भाई मैं यह वाला पोर्न तो नहीं देखता मैं तो नॉर्मल वाला पोर्न देखता हूं!

वह बोला यह भी तो नॉर्मल पोर्न ही है, फिर वह बोलने लगा क्या तूने कभी किसी लड़की के साथ सेक्स किया है?

मैंने उसको बोला नहीं अभी तो मैंने नहीं किया, बट मैं पटा तो रहा हूं एक लड़की को, देखता हूं आगे क्या होगा!

अब मैं बहुत ज्यादा डरा हुआ था क्योंकि एक तो सामने अलग तरीके का पोर्न चल रहा था ऊपर से रोहित भी मेरी तरफ कुछ ज्यादा

ही एब चला रहा था, मुझे अब डर लग रहा था कि कहीं या मेरे साथ ही कुछ गलत ना हो जाए! खैर भगवान का बहुत शुक्रिया अदा

मनाता हूं कि रोहित को सिर्फ गांड मरवाना पसंद था मारना नहीं! लेकिन शायद रोहित की बदकिस्मती यह थी कि उसने गलत

आदमी को अपने घर में पनाह दे दी थी क्योंकि मैं बिल्कुल भी यह सेक्स में इंटरेस्टेड नहीं था!

फिर भी रोहित मुझसे अजीब अजीब से बातें करने लगा और मेरी पेंट पर मेरी जांघों पर हाथ फेरने लगा, मैं उसको पीछे हटाने की

कोशिश कर रहा था लेकिन वह मेरे काबू में नहीं आ रहा था देखते ही देखते उसका हाथ कब मेरे पेंट के अंदर चला गया मुझे यह पता

भी नहीं चला! अब पोर्न देख रहा था और रोहित ऐसी ऐसी बातें कर रहा था तो जाहिर सी बात है मेरा लंड खड़ा हो गया था

जिसको रोहित ने अपने हाथ में पकड़ा और बोला की तू तो इतना नाटक कर रहा है और यहां पर तेरा लंड तो कुछ अलग ही जवाब दे

रहा है!

मैंने रोहित को कई और दलीले दी है लेकिन शायद रोहित सुनने के मूड में नहीं था, रोहित के बेकाबू हाथ मेरे लंड पर लग चुके थे और

अब वह मेरे लंड को हिलाने में लगा हुआ था! मैंने उसके हाथ को पीछे करने की काफी कोशिश की लेकिन वह मुझसे ज्यादा

शक्तिशाली था!

थोड़ी देर के बाद उसने मेरी पेंट को खोल दिया और मेरे लंड को मेरे कच्चे से आजाद कर दिया, मेरा 7 इंच का लंड उसकी आंखों के

सामने आ गया जैसे ही उसने मेरे लंड को देखा उसकी आंखों में मैंने एक अजीब सी भूख देखी,

गांडू गे की गांड चुदाई

मैंने यह तो कभी भी नहीं सोचा था कि शायद कोई लड़की मेरा लंड मुंह में लेगी लेकिन कोई लड़का लेगा यह तो मैंने कभी जिंदगी में

भी नहीं सोचा था! लेकिन अब यह सब हकीकत में हो रहा था और रोहित ने मेरा लंड अपने मुंह में डाल लिया था! जिंदगी में पहली

बार ऐसा एहसास हो रहा था मालूम है जन्नत मिल गई हो उसके बाद मैंने आंखें बंद की और अपनी फेवरेट हीरोइन यानी कैटरीना

कैफ का इमेज इन करने लगा

आंख बंद करने के बाद तो मुझे मानो एकदम जन्नत से मिल गई थी, मुठ मारने से तो यह हजार गुना अच्छी फीलिंग दी! मेरा लंड ऐसा

हो गया था मानो कि अभी उसमें एक बम ब्लास्ट हो जाएगा! इतना ज्यादा मेरा लंड टाइट हो गया था! लेकिन उसको तो मानो और

लंड चूसने का भूत सवार था, अब रोहित ने मेरे लंड की खाल को नीचे किया और सुपारे के बगल वाला जो एरिया होता है उस पर

अपनी जीभ फिराने लगा!

मैं तो मानो पूरी तरीके से मदहोश हो गया था, अभी तक मैं उसे थोड़ा बहुत उसके सर को हटाने की कोशिश कर रहा था लेकिन जब

उसने अपनी जीभ मेरे लंड के अगले हिस्से पर अपनी जीभ चलानी शुरू की तो मैं वह सब भूल गया मैंने अपने दोनों हाथ पीछे बेड पर

टिका लिए!

स्कूल के सर ने मार्क्स के बदले

तब उसमें मेरा लंड अपने मुंह से निकाल कर बोला क्यों बोल अंकुर मजा आ रहा है ना, मैंने कुछ भी नहीं बोला और वह मेरी इस

खामोशी को हां समझ गया! फिर से उसने मेरे लंड को चूसना शुरू किया! वह तो थूक लगा लगा कर मेरे लंड को चूस रहा था ठीक वैसे

ही जैसा पोर्नमूवीज में होता है!

मैंने कई बार लोशन लगा लगा कर भी मुट्ठ मारा है लेकिन जब वह मेरा लंड अपने मुंह में डाल रहा था तो यह एसी फीलिंग थी जो

मैंने जिंदगी में आज तक कभी भी फील नहीं किया था, पहले तो थूक लगा लगा कर अपने हाथों का इस्तेमाल कर रहा था लेकिन थोड़ी

देर बाद उसने अपने दोनों हाथ अपने कमर के पीछे रख लिए और सिर्फ अपने मुंह का इस्तेमाल करने लगा, और अपने सर को मेरे

लंड के आसपास रगड़ रहा था!

उसने मेरे अंडो को अपने हाथों में पकड़ लिया, और उनसे खेलने लगा! वह मेरे टट्टू को बिच रहा था जिससे मुझे दर्द हो रहा था, मगर

एक अजब सा नशा भी हो रहा था ! उसकी सांसे मैं अपने अंडों पर महसूस कर सकता था! फिर अब उसने मेरे टट्टू पर अपनी जीभ

लगाना शुरू किया और मेरे अंडों को चाटना शुरू किया! वह मेरे अंडों को अपने मुंह में भरने की नाकाम कोशिश कर रहा था, एक

लेकर दूसरा नहीं ले पाता!

क्योंकि मेरे आंड दब रहे थे इसलिए मुझे भी दिक्कत हो रही थी, लेकिन इस हरकत में मेरा बिल्कुल भी जोर नहीं चल रहा था! क्योंकि

रोहित ही मुझे डोमिनेट कर रहा था! पर पता है रोहित ने मेरे दोनों आंड अपने मुंह में भरने में सफल हो गया! मेरे दोनों अंडे को अपने

मुंह में भर कर जब वह मेरा लंड हिलाने लगा, एकदम अलग ही अनुभव प्राप्त हो रहा था!

रोहित मेरा लंड हिलाते हिलाते बोला कि मजा आ रहा है कि नहीं, अब तो मैं भी पूरे मूड में आ गया था और मैंने उसको बोला कि हां

बहुत मजा आ रहा है! मैं तो यह सब भूल गया था कि यह जो मैं कर रहा हूं उसके क्या दुष्परिणाम हो सकते हैं! मैं बस उस लम्हे को

इंजॉय कर रहा था!

अब जैसा फिल्मों के अंदर होता है मैंने उसके सर को अपने दोनों हाथों से पकड़कर एक जगह पर स्थिर किया और अपनी कमर को

आगे पीछे करने लगा, उसकी गर्म सांसे मेरे लंड पर स्पर्श करते हुए एकदम मदमस्त सी हो गई थी मैंने अपने कमर को पूरी जोर से

उसके मुंह में अपना लंड आगे पीछे करने लगा!

पहली बार राजू ने अंदर लिया

उसके बाद उसने अपनी भी पेंट और शर्ट खोल दिए, उसका लंडज्यादा बड़ा नहीं था शायद 4:30 या 5 इंच का होगा, मोटाई में कुछ

ज्यादा खास नहीं थी! अब वह मेरी और गांड कर के सो गया! उसने बोला अंकुर तू अपने लंड पर यह तेल लगा ले और मेरे गांड पर

भी तेल लगा दे! मगर मैं तो इस खेल में बिल्कुल ही नया था तो मैंने उसको बोला कि यार तू ही कर दे यह सब!

हालाकि उसने मेरा लंड चूस चूस के उसने बहुत गीला तो कर दिया था लेकिन अपनी गांड के छेद तक वो नहीं पहुंच पा रहा था , ना

चाहते हुए भी मैंने अपने हाथ पर तेल लगाया और बाद में उसकी गांड के छेद में भी तेल मलने लगा! फिर उसने मुझे बोला कि अंकुर

तुम मेरी गांड में उंगली डाल दो! मेरे लिए तो सब कुछ फर्स्ट टाइम था इसलिए तो मुझे सब कुछ अच्छा लग रहा था!

खैर मैंने उसकी गांड के छेद पर तेल मला, आपके अपने लंड पर भी तेल की मालिश करने लगा! अब उसने मेरा लंड अपनी गांड के छेद

पर सेट किया और उसने मुझे बोला कि अंकुर तुम एक धक्का मारो, मैंने हल्का धक्का मारा था जिससे कि उसकी चीख निकल गई! मुझे

लगा उसे दर्द हो रहा है इसलिए मैं पीछे हट गया!

उसने मुझे बोला कि अरे कोई बात नहीं थोड़ा दर्द तो होता ही है इन सब चीजों में , मैं जितना भी चिल्ला हूं तुम रुकना मत, मैंने

बोला ठीक है! मैंने दोबारा से कोशिश की! उसकी गांड का छेड़ इतना टाइट था कि मैं अपना लंड ही नहीं घुसा पा रहा था जबकि मेरे

लंड में अब थोड़ा थोड़ा दर्द होना शुरू हो गया था!

सच बताऊं तो मैं बिल्कुल भी इंजॉय नहीं कर रहा था मेरे लिए वह बहुत पेनफुल एक्सपीरियंस था | मैं बात मै रोहित के लिए नहीं

बोल सकता था! क्योंकि रोहित खुद आगे पीछे होकर अपनी गांड मेरे लंड पर लगा रहा था! अब रोहित ने मुझे बोला क्या हुआ अंकुर

तुझे मजा नहीं आ रहा क्या!!

मैंने उसको बोला ऐसा नहीं है यार बट मुझे थोड़ा अजीब सा लग रहा है तो उसने बोला कि तू ऐसा कर मेरे गांड पर चांटे मार , पहले

तो मैंने धीमे-धीमे चांटे मारना शुरू किया लेकिन फिर वह मुझे गाली देने लगा, समरी ऑफ द स्टोरी यह है कि वह मुझे जलील करने

लगा है जिसके बाद मेरे अंदर का जानवर जाग गया!

अब मैंने उसकी गांड को अपने दोनों हाथों से पकड़ा और अपनी पूरी रफ्तार से उसकी गांड चुदाई करने लगा! वह लिटरली चीख

रहा था चिल्ला रहा था वह मुझे हटने के लिए बोल रहा था लेकिन उसने ही बोला था कि मैं जितना मुझे दर्द हो चिल्लू तू हट ना

मत, मैंने भी अब ठान लेती कि उसकी गांड को फाड़ दूंगा!

मैंने उसकी इतनी जोर से चुदाई कर दी थी कि उसके पैर कांपने लगे थे इसलिए वह सोफे के सहारे घोड़ी बन गया, एक बार फिर से

हम दोनों ने अपना चुदाई का खेल शुरू किया और मैंने अपने धक्कों की तीव्रता बनाए रखें! मेरे धक्कों की जान इतनी तेज थी कि उसका

बड़ा वाला सोफा भी गोते खाने लगा

बहुत ही सेक्सी आवाज में निकाल रहा था रोहित जिससे कि मेरा खून और गर्म हो रहा था, फिर उसने मुझे बोला अंकुर तू एक काम

कर इसी स्पीड में अभी तेरा लंड बहुत ही कम अंदर बाहर हो रहा है तू ऐसा कर इसी स्पीड में रहे और अपना पूरा लंड बाहर निकालो

मेरी गांड के अंदर डालो!

जब मैंने अपने दोस्त की गांड मारी

मैंने मन ही मन सोजा कितना बड़ा चुतिया है यह, जब मेरे लंड के हलके से मूवमेंट में इसकी गांड फट गई है तो जब मैं अपना लंड

पूरा अंदर पूरा बाहर करूंगा तब इसका क्या होगा! लेकिन जैसे कि मैंने आपको बताया इस चुदाई के अंदर रोहित डोमिनेट कर रहा

था! मैंने वैसा ही करा जैसा रोहित ने बोला था हालाकि उसकी इस डिमांड से मेरी स्पीड तो घट गई लेकिन मेरा पूरा लंडबाहर और

पूरा लंडअंदर जाने से रोहित को धक्कों की शक्तिशाली महसूस होता था!

हर धक्के के बाद रोहित थोड़ा सा और आगे खिसक जाता था थोड़ी देर बाद रोहित पूरा ही सोफे पर लेट गया! और मैंने फिर रोहित

की गांड में उसी तरह चुदाई करें जिस तरीके से हम लड़कियों की मिशनरी पोजीशन में चुदाई करते हैं!

मैं अपनी गांड को पूरा ऊपर उठाता हु और अपना लंड पूरा बाहर निकालने के बाद फिर से उसकी गांड के अंदर अपना लंड पूरा का

पूरा उसी फोर्स के साथ अंदर डाल देता, रोहित चीख रहा था हर धक्कों के साथ | अब मैं भी आने वाला था और मैंने रोहित को बोला

कि मैं तेरी गांड में ही डाल दूं क्या माल अपना?

रोहित ने मना किया और वह बोला कि नहीं नहीं है रुक मैं तेरा लंड मुंह में लेता हूं, वह उठा और उसने मुझे सोफे पर बिठा दिया और

खुद घुटनों के बल आकर मेरे लंड को हिलाने लगा! मैं उसकी तरफ देखना नहीं चाहता था लेकिन पता नहीं कैसे मेरी नगर उसकी

तरफ बार-बार जा रही थी और जैसे ही मेरे लंड से मेरे वीर्य की धार निकली उसने रोहित के पूरे मुंह को सारोबार कर दिया!

अब रोहित ने मेरे लंड को मुंह में ले लिया और मेरा बचा हुआ माल या मेरे लंडपर जितना भी माल गिरा था उसको चाट के साफ कर

दिया! मैंने तो अपना काम कर दिया था लेकिन शायद रोहित के मन में कुछ और भी था इसलिए रोहित ने मुझे बोला कि भाई अब तो

मेरे लंडसे चुदाई करवा!

लेकिन मैं तो गे नहीं था मैंने रोहित को मना किया और उसको यह बोला सुन मैं तो यह सब नहीं करूंगा तू चाहे जो मर्जी कर ले,

हमारी बहस हो गई मैं इस बात से डर रहा था कि कहीं रोहित मेरे साथ जबरदस्ती ना कर दे इसलिए मैंने थोड़ा समझाई से काम

लिया और मैंने उसको बोला कि सुन मैं तेरे को कुछ ऐसे दोस्त लाकर दूंगा जो रोज तेरी गांड मारेंगे और प्लस में भी रहूंगा वहां पर मैं

भी तेरी रोज गांड मारूंगा!

गांड मारने की बात पर तो वो थोड़ा शांत हुआ और वह मुझे बोला कि अंकुर तूने ठीक नहीं किया खुद तो मेरे को चोद लिया लेकिन

अब खुद अपनी गांड नहीं मरवा रहा है, मैंने उसको बोला देख रोहित मैंने तो यह सब नहीं किया था ना| यह तूने शुरू किया था तू ही

जबरदस्ती सारी चीजें कर रहा था मेरा बिल्कुल भी मन नहीं था!

थोड़ी देर बाद रोहित शांत हुआ और उसने बोला कि यार , तूने तो मेरी आज गांड का ढक्कन खोल दिया! मैंने उससे पूछने की कोशिश

की कि ऐसा क्या हुआ कि तू इन सब चीजों के अंदर आ गया उसमें जो मुझे बात बताई वह मैं आपको इस वेबसाइट पर नहीं बता

सकता क्योंकि यह वेबसाइट की पॉलिसी के खिलाफ होगा हालांकि आप समझदार तो है ही आपने फिगर आउट कर ही लिया हुआ कि

बचपन में उसके साथ किसने क्या-क्या किया होगा | अगर आपको वह जानना होगा तो आप नीचे दिए गए ईमेल आईडी पर स्टोरी

का रिव्यू और बाकी सारी चीजें पूछ सकते हैं!

[email protected]

error: Content is protected !!