गाँव की चुदाई भाग-1

पढ़े लिखे वर्मा जी ने गाँव में जाकर काफी चुदाई मचाई और एक 30 साल की औरत के साथ सेक्स का पूरा आनंद लिया। उन्होंने अपनी कहानी में बताया की उनकी कंपनी ने किसी काम के लिए उन्हें कुछ दिन गाँव भेज दिया जहा उन्हें चुदाई का मौका मिला तो उन्होंने उसका पूरा फयदा उठाया। अब पढ़े लिखे वर्मा जी ने ऐसा क्या किया ये तो उनकी कहानी गाँव की चुदाई पढ़ने के बाद ही पता चलेगा।

मेरा नाम राज वर्मा है में कोटा राजस्थान का रहने वाला हूं। मेरी उम्र 37 हो चुकी है में एक मध्यम वर्ग परिवार से हूं और खाते पीते घर का लगता हू । क्यू की एक अच्छे भारी जिस्म का मालिक को हूं । में आपको अपनी एक सच्ची चुदाई कहानी बताने जा जा रहा हूं जिसके पात्र के नाम मैने बदल दिए है।

में ये नहीं कहूंगा मेरा इतना बड़ा है या ऐसा है मगर आज तक जितना भी सेक्स किया है उन सभी को संतुष्ट ही किया है। में दिल्ली की एक कंपनी में था जो मुझे काम से कहीं भी भेज देती थी मगर जो सरकारी ठेका वो लेती थी वो राजस्थान का होता था जो कभी मुझे संभालने भेजा जाता था। 

मुझे एक बार पाली की तरफ किसी काम से भेजा गया जहां गांव में जाकर मेरे द्वारा सेलेक्ट की गई टीम को सर्वे करना होता था। जिसके लिए गांव के पंचायत में कैंप लगाया जाता था। 

पाली के किसी आदिवासी गांव में मैने कुछ महीनों का कैंप लगवाया। में वैसे तो काम सेटअप करके होटल में रुकता था मगर गाव सिटी से काफी दूर था इसलिए सरपंच ने हमें पंचायत समिति के ऑफिस में रुकने का इंतजाम कर दिया । में शाम को गाव के बाहर टहल रहा था तो एक औरत मुझे एट हुए दिखाई दी । 

उसने पास आते ही मुझे कहा तुम तो वही कैंप वाले हो ना उसने कहा तुम मेरा काम करवा दो में इतनी लंबी लाइन में नहीं लग सकती सारा दिन खेत पैर काम होता है मेरा आदमी भी नहीं है । 

मैने कहा करवा दुगा मगर आपके पास पूरे कागज हो तो मुझे दे दो अभी जक सुबह 10 बजे से पहले आकर पहले आप ही अपना कार्ड बनवा लेना । उसने कहा मेरा घर पास ही है चलो आप चल सको तो चलो । 

में आपको उस औरत के बारे में बताना भूल गया वो गांव की कोई 30 उम्र की गोरी गदराया जिस्म की मालकिन थी उसकी मासल जिस्म में उसकी दो घाटियां साफ नजर आ रही थी जो उसके ब्लाउज को फाड़कर बाहर आना चाह रही थी ।

ब्लाउज में से उसकी चूचियां नजर आ रही थी क्यों की एक तो उसका ब्लाउज तंग था ओर उसने ब्रा नहीं पहनी थी । उसका नाम मीना था शाम ढलने को थी में उसके साथ चलने लगा । थोड़ी देर बाते करते हुए में उसके साथ उसके घर आ गया।

उसका घर काफी बड़ा था जैसा गांव में कच्चा मगर आलीशान घर था। उसने कहा आप बैठो में कागज में आती हूं और वो कागज़ लेने चली गई ।  वो थोड़ी देर में कागज लाई और मेरे सामने नीचे बैठ कर कागज फेला दिए।

मगर मेरा ध्यान तो उसके बड़े दूध पर ही था जिनको देखते हुए उसने देखलिया पर मुझे कुछ नहीं कहा ना ही उसने अपना आंचल सही किया। ये सब देख कर मेरा तो खड़ा होने लगा जिसका आभास मीना को भी शायद हो गया था ।

उसने कहा सोनू के पापा के मरने के बाद सारा घर  में ही देखती हूं और  सोनू की शादी भी करवाई मगर वो भी घर बैठी है उसका पति भी मरा आवारा निकला । सोनू उसकी बेटी का नाम था जो उस वक़्त वाहा नहीं थी। 

उसने मेरे हाथ में कागज थमा दिए तो में भी  कुर्सी से नीचे उसके सामने बैठ  गया और उसके साथ उसके कागज देखने लगा । कुछ कागज मैने  के लिए ओर खा अब ने चलता हूं तो मीना बोली खाना खा कर चले जाना थोड़ा ओर रुक जाओ ।

मैने मना किया तो बोली में भी अकेली हूं थोड़ा रुक जाओ वाहा पंचायत में भी को आपका इंतज़ार कर रहा है  सोनू भी आ जाएगी जब तक पास के गांव गई है मेरी बहन के ।

मीना का इतना बोलना था कि लाइट चली गई उसने कहा आप यही रहो में लाइट लाती हूं में वहीं खड़ा रहा मेरे मन में  उथल पुथल थी मगर एक सरीफ आदमी हूं डर भी था कहीं कोई अनहोनी ना हों  जाए इसलिए हिम्मत नहीं हो रही थी। उधर।

अपना लंड खड़ा करने के लिए हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करे !!

follow antarvasnastory on instagram

पप्पू महोदय अपना फन उठाए बैठे थे। इतने में  मीना मुझे आती दिखाई दी सामने से आते हुए शायद उसके पांव में कुछ आया जिस से वो फिसली और अंधेरा हो गया मैने आगे बढ़कर उसे पकड़ा तो वो ओर में फर्स पर गिर पड़े वो नीचे ओर में उपर मेरा एक हाथ उसकी कमर पर ओर दूसरा उसकी दूध पर आ गया।

अंधेरे में मैने उठने की कोशिश की तो उसने मुझे ओर का के पकड़ लिया और मैने अपनी हथेली की पकड़ उसके दूध पर तेज कर दी। मीना मुझसे लिपट गई मुझे ना जाने क्या हुआ मेरे होठ उसके होठों से लग गए।

कम से कम 10 मिनट तक हम अंधेरे में चुम्बन करते रहे में उसके दूध को  दोनों हाथो से  मसलता रहा।

इतने  में लाइट आ गई तो हम अलग हुए और वो मुझे हाथ पकड़ कर कमरे में  के गई और मेरे सीने से लग कर बोली पति के बाद आज में अकेली थी आपने मेरी प्यास को फिर भड़का दिया है। ये बोलकर हमारे होठ मिल गए। में भी होश खोकर उसके जिस्म से खेलने लगा मैने उसका ब्लाउज निकाल कर दूध को पीने लगा मुझे दूध चूसना बहुत पसंद है।

उसने पेंट में से मेरा लिंग निकाल कर पकड़ लिया। में उसके जिस्म से खेलते हुए उसके उसकी नाभि तक आ गया  उसके पूरे जिस्म को चूसता चाटता रहा। मुझे जंगली सेक्स ना जाने क्यों पसंद है।

मैने  उसका घाघरा जैसे ही उठाया उसकी फूली हुई चुद मेरे सामने आ गए जो गीली हो रही थी। उसने मुझे नंगा कर दिया फिर मैने उसकी चूद में अपनी दो उंगलियां डाल दी मेरी उंगलियां उसकी मलाई में भीग गई।

अब ने बीच उसकी नाभि से चुम्बन करते हुए मीना। की चुद को चूसने लगा  जिस से वो पागल हो गई और मेरे बालों को पकड़ कर जोर से मेरा मूह चुद पर दबाने लगी।  मैने उसे उठा कर अपना लिंग उसके मुंह में दे दिया वो लॉलीपॉप कीं तरह से चूसने लगी और में मजा लेने लगा।

उसके बाद मैने मीना। को घोड़ी  बना कर लिंग सीधा उसकी गीली चुद ने डाल दिया लिंड सीधा पिट की आवाज के साथ अंदर चला गया और मीना  के मुंह से सिसकारी निकल गई हम 10 मिनट तक इसी पोजिशन में चुदाई करते  रहे फिर वो सीधी हुए ओर  पास के पलंग पर पीठ के बल लेट कर मेरे लिए उसने अपनी दोनों टांगे हवा में लहरा कर खोल दी मैने देर ना करते हुए लिंग फिर से उसकी चुद में डाल कर  जोरदार धक्का दिया पूरा पलंग चरमर की आवाज के साथ हमारे बीच के युद्ध की गवाही दे रहा था।

में उसके दूध मुंह में चूसता हुए पिस्टन की तरह पट पट की आवाज के साथ उसकी चुद बजता रहा ओर  इसी तरह हम 20 मिनट तक चुदाई के बाद मैने पूछा कहा निकालना है ।

मीना  बोली  अंदर निकाल दो तो मैने  अपनी पिचकारी उसकी चुद में छोड़ दी ओर उसके दूध उहस्ता ओर मसलते हुए मीना पर ढेर हो गया ओर वो भी कुछ देर ऐसे ही लेटी रही  फिर उठकर अपने पेटीकोट से  मेरा लिंग साफ किया ओर मुझे बोली आज बहुत सालों बाद प्यास भूजी है । अब जब तक हो मेरे पास रहो।

इसके बाद  हमने खाना  खाया एक घंटे  में  उसकी बेटी सोनू आ गई जो 21 साल के आसपास होगी उसकी गोद में एक बच्चा था जो सोनू का था।  फिर में  वहां से चला आया। अपनी ओर सोनू की अश्लील कहानी में आपको अगली बार बताऊंगा ओर ये  भी की मीना ओर मैने क्या क्या किया। आप मुझे बताएं आपको मेरी कहानी कैसी लगी मेरा ई मेल है : [email protected]

वर्मा जी की कहानी का दूसरा भाग पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे (गाँव की चुदाई भाग 2)

error: Content is protected !!