गांव की चुदाई भाग-2

जिस गाँव की औरत को वर्मा जी ने अपनी पहली कहानी में पटाया था वो आज अपनी दूसरी कहानी में उसी के घर जाकर चुदाई मचाते है। उनकी इस अश्लील हरकत करने की हिमत को हम सभी सलाम करते है। अगर अपने उनकी पहली अन्तर्वासना कहानी नहीं पड़ी तो यहाँ क्लिक करे (गांव की चुदाई भाग-1).

मैं राजस्थान के कोटा जिले से आपका राजेन्द्र फिर से अपनी कहानी लेकर वापस आपके सामने हूं। जैसा मैने बताया मीना से मिलन के बाद अगले दिन मीना सुबह ही मेरे पास आई और बोली मुझे आपसे कुछ बात करनी है।

मैं उस लेकर थोड़ा साइड मैं आया ओर कहा बोलो। मीना बोलो आप आज शाम का खाना मेरे घर ही खाना मैं आपको लेने 6 बजे पंचायत ऑफिस आ जाऊंगी। मैने मजाक मैं कहा आज भी मन है क्या मीना बोली मन का क्या आप तो अब अपने है।

अब शाम को मिलूंगी अभी गाव का कोई देख लेगा यह कह कर वो चली गई। दोपहर मैं सोनू मेरा खाना लेकर भी आई मैने उस से कहा इसकी क्या जरूरत है सोनू बोली मां ने कहा है आप को खाना खिला कर ही आना।

मैं आपको सोनू के बारे मैं बता दू सोनू एक 23 साल की जवान लड़की है जिसका बच्चा  उसकी  गोद मैं था । वो शादीशुदा थी मगर उसका पति शराबी था जिस कारण से उसकी मां उसे अपने साथ ले आई। सोनू ने घाघरा चोली पहनी थी जिसमे से उसके 32 साइज के दूध से भरे चूचे के कटाव साफ  नजर आ रहे थे। मैने उस से थोड़ी बात की और खाने के बाद उसे जाने दिया। 

शाम को मीना आज सवर कर मुझे लेने आई के बोली आप थोड़ी देर बाद मेरे घर आ जाना  मैं  सोनू  को मेरी बहन के  पिछले गाव भेज रही हूं। मैं थोड़ी देर के बाद मीना के घर को निकल गया ओर  मेरे  साथ वालो को बोला मैं रात को पंचायत मैं मिलूंगा। मैं जैसे  ही मीना के घर गया वो पहले से ही मेरा इंतेज़ार दरवाजे पर ही कर रही थी।

आज वो काफी अच्छी दिख रही थी उसने लाल रंग की ओढ़नी पे लाल चोली ओर कला घाघरा पहना था।  मीना बोली पहले आप खाना खा लो आज घर मैं कोई नहीं सोनू कल ही आएगी। हमने साथ खाना खाया फिर वो मुझे लेकर अपने कमरे  मैं आ गई कहा एक चारपाई थी ओर साथ ने लोहे का बक्सा रखा था ओर थोड़ा बहुत सामने इधर उधर बिखरा था। 

मैं चारपाई पर बैठ गया मीना मेरे सामने नीचे मेरे पांव के पास ही बैठ गईं। वो बोली बाबू आप जब तक रहो यह क्यों नहीं रहते मेरे घर पर कोई कमी नहीं होगी आपको। उसने मुझे एक गिलास मैं दूध दिया जो मैने कहा आधा तुम पो लो तो उसने थोड़ा सा पी कर कहा आपके लिए बनाया है आप ही पी क्यू नहीं लेते।

मैने चारपाई पर बैठे हुए मीना केगले मैं हाथ डाला तो वो उठ कर मेरे साथ उपर आ  गई ओर मेरे गले लग गई। मैने उसे बाहों मैं भर कर एक तरफ़ चारपाई पे लुढ़क गया। मीना मेरी छाती पर हाथ फेरते हुए मेरी सर्ट निकालने लगी ओर मुझे छाती पर किस करने लगी। मैने मीना कि चोली की डोरी खीच ली जिस से उसकी छाती नंगी हो गई उसकी 36 साइज की चूची को अब मैं अपनी हथेलियों से जोर जोर से दबाने लगा जिस से वो आआह करने लगी।

अब मैने उसे अपने सीने से लगा लिया और मैं उसकी दूध जैसी महक मैं खो गया ओर उसके दूध दबाते हुए लाल होंठो नका रसपान करने लगा। मीना ने उठकर मेरे कपड़े निकालना सुरु कर दिया ओर मुझे बिल्कुल नंगा कर दिया ओर खुद मुझे चारपाई पर धक्का देकर  गिरा  दिया जिस से उसके बड़े बड़े बूब्स लटक कर उछलने लगे। जिसे मैने थाम लिया ओर उनपर मुंह लगा दिया ।

मैने चारपाई से उठकर उसे उठाया और सीधा लेटाकर उसके उपर इस तरह आ गया कि मेरा मुंह उसकी चुद पर उसका मेरे लिंग पर आ जाए।  थोड़ी देर तक वो मेरा लिंग चूसती रही ओर मैं उसकी घाटी का रसपान करता रहा।

उसके बाद मैं उठकर उसकी बहती हुई चुद पर अपना लिंग रख कर उसे चोदता रहा।  15 मिनट तक मे उसे  लगातार पेलता रहा मेरे धक्कों से पूरी चारपाई हिलती रही ओर कमरा हमारी आहो से भर गया। मेरी आदत है कि मे खुद को रिचार्ज करते हुए सैक्स करता हूं। 

इसलिए मैं थोड़ा रुका और चारपाई से उठ खड़ा हुआ साथ मे उसे उठा कर  नीचे झुका दिया  मैने उसे पिछे से चोदने लगा। अब जैसे मीना खुद कमान संभालना चाहती थी मीना पलटकर नीचे बैठ गई और मेरे लिंग को जोर से पकड़ कर लॉलीपॉप की तरह से चूसने लगी अब तो मेरा लावा और भी उफान पर आ गया।

मैने उसका सिर पकड़ कर अपना लिंग उसके गले तक धक्का देने लगा वो गु गु करने लगी अब तो जैसे मुझे कुछ नहीं सूझा खड़े हुए ही उसने बूब्स जोर से हाथ बड़ा कर खींचने लगा। मेने मीना को खड़ा कर गोद मे ले लिया और दोनों टांगो को उठा कर चोदने लगा। मेरा लिंग उसकी चूद मे जड़ तक जाने लगा दीवार से सटा कर गोद मैं लेकर कई मिनट तक उसे चोदता रहा।

इसके बाद उस चारपाई पर पटक कर अपना आखिरी चरम युद्ध का आगाज़ कर दिया ओर धाकपेल पिस्टन की तरह चूद को पट पट कि आवाज के साथ बजाता रहा।

अपना लंड खड़ा करने के लिए हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करे !!

follow antarvasnastory on instagram

अब मीना ओर मेरा वीर्य एक साथ छूट गया ओर हम दोनो बाहों मैं भर कर सो गए। रात को 2 बजे मेरी नींद टूटी तो मीना नंगी मेरी तरह गान्ड कर के सोई हुई थी उसी ऐसा देखकर मेरा लिंग फिर से खड़ा हो गया।

मैने अपना लिंग हाथ मैं लेते हुए ही मीना की गान्ड की तरफ से चुत मे पेल दिया। मैने पिछे से लेटे हुए ही लिंग चुत मे सेट किया और फिर से एक राउंड होने लगा। 20 मिनट तक मीना को पेलता रहा फिर उसके ऊपर आकर जमकर फिर से चुदाई की ओर सारा वीर्य उसकी चूद मे भर कर फिर हम साथ चारपाई पर सुस्ताने लगे।

आपको पता है गाव मे दिन जल्दी ही शुरू हो जाता है इसलिए सुबह जल्दी ही उठकर अपने ऑफिस गया। ये थी मेरी रीयल कहानी अभी सोनू की चुदाई की कथा बाकी है जो मैं आपको अगले भाग मैं लिखुगा। मुझे मेल करे और बताए की मेरी कहानी गांव की चुदाई भाग-2 आपको किसी लगी।

मेरा मेल एड्रेस- [email protected]  मुझे आपके मेल का इंतेजार रहेगा।

वर्मा जी की कहानी का तीसरा भाग पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे (गांव की चुदाई भाग-3)

 

error: Content is protected !!