PUBG खेलने के बहाने दोस्त की बहन के साथ चोदा चोदी

पटना बिहार के रहने वाले सोनू जब अपने दोस्त के घर PUBG गेम खेलने गए तो उन्होंने अपने मित्र की बहन के साथ सेक्स कर लिया। सोनू ने अपनी कहानी में बताया की जब वो गेम खेल रहे थे तो दोस्त की छोटी बहन भी आ गई। बस गेम खेलते खेलते दोनों की आंख लड़ गई और उन्होंने उसी वक्त अश्लील कार्यक्रम शुरू कर दिया। अब सोनू ने दोस्त के ही घर में उसी दोस्त की बहन के साथ चोदा चोदी कैसे की उन्होंने अपनी कहानी में खूब अच्छे से बताया है। 

मैं घर बैठा काफी बोर हो रहा था तो सोचा अपने दोस्त के साथ pubg खेल लू। पर मेरा फोन थोड़ा खराब था जिस वजह से मुझे आवाज नहीं आती थी। इसलिए मैं सीधा दोस्त के घर चला गया। 

मेरे दोस्त का नाम शम्भु था। उसके घर वाले मुझे अच्छे से जानते थे क्यों की हम दोनों एक ही जगह साथ काम कतरे थे। शम्भु की माता ने हमारे लिए चाय बनाई और हम मजे से थोड़ी देर बाते किया और आराम से AC की ठंडी हवा में गेम खेलने लगे। 

तभी शम्भु की छोटी बहन कॉलेज से आ गई उसका नाम कंचन था। हमे गेम खेलता देख वो मैं साथ आ गई क्यों की उसे इस गेम का काफी शोक था। 

पहले ही मैच में शम्भु मर गया और बस मैं और कंचन ही बचे थे। तभी घर की लाइट चली गई और आंटी चीला चीला कर शम्भु को डाटने लगी की उसने बिजली का बिल सही समय पर क्यों नहीं दिया। 

शम्भु जल्दी से बिजली का बिल जमा करने के लिए दफ्तर भागा और हम दोनों गेम खेलते रहे। 

कंचन गेम झुक कर खेल रही थी जिस वजह से मुझे उसके स्तनों की दरार दिकने लगी। उसके सफेद और गोल मटोल सुंदर स्तन देख मैं मोहित हो गया। 

गेम में कंचन मुझ से बम मांगती रह गई और मैं उसके दोनों बम देख कर अपनी बंदूक खड़ा कर लिया। जब कंचन ने मेरा चेहरा देखा तो मैं उसके स्तन देख रहा था। 

मेरा ऐसा व्यवहार देख वो शर्मा गई और अपनी ब्रा और कमीज ऊपर करने लगी।

गेम तो हम हार गए थे लेकीन पता नहीं कैसे मैंने कंचन का दिल जित लिया था। 

कंचन – एक और गेम खेले ?

मैंने कहा – हाँ जरूर !!

कंचन बेवजह हंसे जा रही थी ये देख मैं समज गया की अब वो मेरी सेटिंग बन गई है। घर पर शम्भु नहीं था और उनकी माता नीचे रसोई में हाना बना रही थी। 

अच्छा मौका देख मैंने कंचन की गर्दन पर हाथ रखा और उसका चेहरा अपनी तरफ खींच कर उसे होठो पर चुम लिया। 

कंचन (नीचे देखते हुए) – ये आप क्या कर रहे हो सोनू ?

मैंने कहा – मैं तुम्हे पसंद करता हूँ। 

दोस्त की बहन हस कर यहाँ वहा देखने लगी और उसकी इस हरकत को मैंने हाँ समझा।    

मैं झट से कंचन के साथ बैठा और उनकी गर्दन पर चुम्बा चाटी करने लगा। मेरी तरह कई लड़के है जो लॉकडाउन में बहन की चुदाई करना चाहते होंगे और आज मैं अपना सपना पूरा करने जा रहा था। 

कंचन मेरे होठो की चिपचिपाहट और सांसों की गर्म हवा से सेक्सी महसूस करने लगी। उसके शरीर पर रोंगटे खड़े हो गए और वो आंखे बंद करके मेरे हाथो को अपने कामुक शरीर पर महसूस करती रही। 

मैंने अपने हाथ कंचन के शरीर पर यहाँ वह लगाना शुरू क्या किया कंचन सिसकियाँ लेने लगी। मैंने धीरे से उसकी कमीज मैं अपना हाथ डाला और उसकी मोटी चूची मसलने लगा। 

दोस्त की बहन के साथ चोदा चोदी की खेल खेलते खेलते मेरा लंड तन गया और कंचन की उस पर नजर पड़ गई। उसने अपना हाथ मेरे लंड पर रखा और धीरे से कहा कितना बड़ा है ये !!

कंचन की कोमल वजा मैं चुदाई के दौरान सुनना चाहता था इसलिए मैं जल्दी से कमरे का दरवाजा अंदर से बंद किया और कंचन के सामने अपना लंड निकाल कर खड़ा हो गया। 

कंचन – अहह !!! मैंने कभी किसी लड़के का लिंग असली में नहीं देखा। 

मैंने कंचन का हाथ पकड़ा और उसके हाथ में अपना लंड दे दिया। 

कंचन (मुस्कुराते हुए) – ये तो गर्म भी है !!

मैंने कंचन का मुँह खोला और सीधा उसके मुँह में अपना लिंग दे दिया। कंचन मजे से मेरा लंड और गोटे हर जगह से छूने लगी और मेरे लंड के पानी का स्वाद लेती रही। 

लंड चूसते चूसते उसने अपनी जीन्स में हाथ डाला और अपनी योनी में ऊँगली करने लगी। 

मैंने कहा – अब तुम्हे ऊँगली कभी नहीं करनी पड़िगी !!

कंचन – हाँ पता है।

कंचन ने अपनी पैंट उतारी और अपनी योनी के ऊपर मेरा लंड रगड़ने लगी। उसकी चुत बालो से भरी और काली थी जिसे देख मेरी कामवासना और बड़ गई।

मैंने अपना लिंग नीचे दबा कर पकड़ा जिसके कारण मेरा लंड और मोटा साथ ही साथ और ज्यादा नसों से भर गया। इस तरह लंड और सख्त कर के मैंने कंचन की चुत में अपना लंड घुसा दिया।  

कंचन – अह्ह्ह अहह अच्छा लग रहा है अहह !!

कंचन का मुँह खुला का खुला ही रह गया और उसे देख मैं भी सेक्सी हो गया। मैंने अपनी शर्ट उतरी और कंचन मेरी छाती को कामुक तरीके से छूती रही। 

उसके नाख़ून से मेरी छाती और पीठ पर निशान बन गए। चुदाई के दौरान वो मुझे और तेजी से नोचने लगी और मैं अपनी कमर और तेजी से हिलाता रहा। 

दोस्त की बहन के साथ चोदा चोदी करके मैं अपने गोटो का माल खाली करने वाला था। कंचन ने मुझे कस कर गले लगाया और मैं उसकी चुत में अपना लंड देता रहा।

कंचन मेरे कान के पास अह्ह्ह उह्ह की धीमी आवाजे करती रही और अपनी चुत में मेरा खड़ा लंड लेती रही। 

सोफे पर सेक्स करने में हम दोनों को काफी मजा आ रहा था। ऊपर से कामुक और सेक्स दोस्त की बहन अपनी चुत से मेरा लंड निकालना भी नहीं कहती थी। 

थोड़ी देर हम दोनों ऐसे ही जबरदस्त सेक्स करते रही और चुदाई से कंचन की चुत से सफ़ेद पड़ी निकल गया। मैंने अपना लंड बाहर निकाला ताकि वो मेरे बच्चे की माँ न बन जाये। 

मेरी पुरे लिंग पर दोस्त की बहन का सफ़ेद माल और योनी के कुछ बाल चिपके थे। शर्म न करके मैंने वही गन्दा लंड कंचन के मुँह में दे दिया और वो भी उसे अलग अलग तरह से चूसने लगी।   

वो अपना मुँह जोर जोर से हिला और अपने मोटे होठो से मेरा लिंग चूसने लगी। ऐसा लग रहा था की वो अपनी शर्म भूल चुकी है और अब उसे बस मेरे सफ़ेद पानी की भूख है। 

उसकी जबरदस्त लंड की चुसाई से मैं अपनी चरम सीमा का सुख प्राप्त कर लिया। कंचन का मुँह पहले से थूक और मेरे लंड के पानी से भरा था ऊपर से मैंने अपना सफ़ेद माल भी उसके मुँह में घुसा दिया। 

कंचन कितनी हवसी हो चुकी थी की उसने वो बस अपने गले से नीचे उतार लिया। उसके बाद हमने कपड़े पहने और कंचन ने मुझे अपना फ़ोन नंबर दे कर कहा जब भी मिलना हो फ़ोन कर देना। 

उसके बाद शम्भु के आने से पहले में वह से भाग गया। तो मेरे हवसी यारो ये थी मेरी हॉट हिंदी सेक्स स्टोरी अगर आपको अच्छी लगी तो कमेंट में जरूर बताना और antarvasnastory.net को अपना प्यार देना।