कोरोना काल में पड़ोस की आंटी की चुदाई

पड़ोस के शर्मा जी अंकल को करोना हो गया और वह 15 दिन के लिए कोरेंटिन में चले गए। इसके बाद से आंटी घर पर अकेली हो गई और मैं अपने कमरे से आंटी को देखता रहता था जब वह कपड़े सुखाने के लिए बाहर आती थी या जब वह अपने बाल सुखाने के लिए नहाकर बाहर आती थी।

आंटी बहुत ही हॉट और सेक्सी थी और मैं इस खराब समय में भी इस करोना काल में पड़ोस की आंटी की चुदाई करना चाहता था।

मेरी मम्मी और आंटी दोनों अच्छी दोस्त थी तो मैं उन के बहाने मम्मी के साथ उनके घर चला जाता था।

मैं आंटी से देर तक बात किया करता था और आंटी भी अपनी सारी बातें मुझसे शेयर करने लगी थी।

वह कहती थी तुम्हारे अंकल को जब से करोना हो गया मैं घर पर बहुत ही अकेली हो गई हूं, मुझे बिल्कुल भी खुशी नहीं होती है।

मैं मन में ही सोचता था – खुशी कैसे होगी आंटी अंकल आपको चोद नहीं रहना आजकल,

मम्मी और आंटी दोनों बात करती रहती थी और मैं बस आंटी को ही घूरता रहता था। उनके बड़े-बड़े स्तन देखकर मेरे लंड खड़ा हो जाता था उनके मोटे मोटे होठों को देखकर उन्हें चूसने का मन करता था।

उनकी मोटी गांड को देखकर उस पर थप्पड़ मारने का मन करता था उसे अपने लंड से चोदने का मन करता था।

परंतु मुझे पता था यह सब करने के लिए मुझे कुछ तो करना पड़ेगा जिससे मैं आंटी की ले सकु।

तो जब आंटी मार्केट में सब्जी लेने जाती थी तो मैं उनके साथ चला जाता था। उनके घर पर भी समय बिताना चालू कर दिया था कि मैं उनके घर के कामकाज में मदद कर सकूं।

मैं ज्यादातर अपना समय आंटी के घर पर ही बिताने लगा।

मम्मी मुझसे पूछती थी – तुम आंटी के घर इतना क्यों रहने लग गए हो बेटा?

मैंने बोला – आंटी घर पर अकेली रहती है ना… इसलिए मैं उनके साथ रहकर  उनका मन बहलाया करता हूं।

मम्मी ने बोला – हां! यह तो अच्छी बात है चलो तुम अच्छा काम कर रहे हो।

परंतु मम्मी को क्या पता मैं अपने ही जुगाड़ में लगा हुआ हूं।

फिर एक दिन, कुछ ऐसा हुआ जब मैं आंटी के साथ लूडो खेल रहा था और हम दोनों साथ में वाइन पी रहे थे।

पहले तो मैंने वाइन पीने से मना कर दिया लेकिन आंटी ने बोला – यह तो सिर्फ वाइन है दारु नहीं है इससे कुछ नहीं होता ये सिर्फ फलों का रस है।

तो हम दोनों इसे पीकर लूडो खेल रहे थे परंतु वाइन का भी नशा होता है और जो कि वह हम दोनों पर दिख रहा था।

आंटी के साथ लूडो खेल कर आंटी के बड़े बड़े स्तनों को देखने में बहुत मजा आता था क्योंकि उनका पल्लू नीचे गिर जाता था उस टाइम पर।

आंटी ने बातों ही बातों में और खेलते खेलते हद से ज्यादा वाइन पी ली, उन्होंने पूरी बोतल पी डाली।

और अचानक से उनका चेहरा लाल पड़ गया और वह गर्म गर्म हवाएं छोड़ने लगी।

उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और कहा मुझे पता है तुम मुझे ही देखते रहते हो। मैं बहुत ही ज्यादा घबरा गया और मैंने बोला – नहीं आंटी ऐसा तो कुछ नहीं है।

आंटी ने बोला – झूठ मत बोलो… मुझे पता है तुम मेरे सीने को देखते रहते हो मेरे पीछे को देखते रहते हो।

मुझे समझ में नहीं आ रहा था मैं क्या बोलूं, तो मैं शांत हो गया।

फिर आंटी ने यह बोलते बोलते मेरे होठों पर एक छोटा सा चुम्मा दे दिया और बोला – तुम कितने प्यारे हो !

मैं अचानक से आंटी को देखने लगा और आंटी भी मुझे देखती रही।

फिर मैं ठहरा हरामि लौंडा, मैं तो आंटी की चुदाई ही चाहता था बस मैं आंटी के चिपक गया और उन को चूमने लगा।

आंटी के मोटे मोटे होठों को चूसने लगा और उनके अंदर अपना वासना रस डाल रहा था।

आंटी को बहुत ही ज्यादा हावस चढ़ी हुई थी और वह मेरे ऊपर चड़ गई और मुझे उल्टा चूमने लगे।

उन्होंने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और अपने आप को भी पूरा नंगा कर दिया और वह मेरी गर्दन पर चूमने लगी मेरे पूरे बदन को चूमने लगी।

कुछ भी कहो मुझे तो बहुत ही मजा आ रहा था और अन्तर्वासना आंटी का बल खाता हुआ सेक्सी बदन देखकर मेरे लंड से तो पानी ही टपक रहा था।

आंटी – ओह! सुरेश (मेरा नाम) तुम्हारा लैंड कितना बड़ा है तुम्हारी उम्र के हिसाब से!!

मैंने बोला – आंटी में कॉलेज के लास्ट ईयर में हूं आप शायद भूल गई हैं मैं एक जवान लड़का हूं।

आंटी हंसते हुए – अरे हां… मैं तो भूल ही गई थी… तुम तो एक जवान लड़के हो, तो चलो अपनी इस बूढ़ी आंटी को थोड़ी सी जवानी दिखाओ।

मैंने आंटी को सोफे पर लिटा दिया और उनके बड़े बड़े स्तनों को चूसने लगा फिर मैं धीरे-धीरे उनकी चूत चाटने लगा।

सच में, चूत चाटने में बहुत ही मजा आता है उनकी चूत को मैं चाटे ही जा रहा था और उनकी चूत में उंगली भी कर रहा था।

आंटी – अब मुझे इतना मत तड़पाओ जल्दी से अपना लंड डाल दो!!

मैंने अपना लंड पूरे दमखम के साथ आंटी की चूत में घुसा दिया।

आंटी एकदम से चीख पड़ी – आह!! आह!!!!

और बोली – तुम्हें धीरे धीरे करना चाहिए था मैं बहुत ही समय बाद यह कर रही हूं तब से तुम्हारे अंकल कोरेंटिन हो गए हैं।

मैंने बोला – कोई बात नहीं आंटी… आज आपको मैं शर्मा जी अंकल से भी ज्यादा तगड़ा मजा दूंगा

और मैं आंटी की प्रचंड तरीके से lockdown mein chudai करने लगा मैं आंटी को काटा घर चोद रहा था।

आंटी के बड़े-बड़े स्तन में अपने पूरे हाथों से पकड़कर उसका सहारा बनाकर आंटी की चूत की जबरदस्त चुदाई कर रहा था।

आंटी – आ! आ! आ! आ! आ! आ! आह!! ऊह!!!  बहुत मजा आ रहा है… ऐसे ही चोदो अपनी आंटी को

फिर मैंने आंटी को घोड़ी बनाया और उनकी गांड की सवारी करने लगा। मतलब मैं उनकी गांड की जबरदस्त चुदाई करने लगा आंटी की मोटी गांड बहुत ही बढ़िया थी जिससे मेरा लंड पूरा खड़ा था।

मैं आंटी की गांड पर थप्पड़ मार रहा था चटर चटर और उनकी गांड को खचाखच अपने लंड से चोदा जा रहा था।

जितनी बार में आंटी की गांड पर झटका मारता था उतनी बार आंटी की गांड गंदे की तरह हिलती थी और उनके चुचे ऊपर-नीचे होते हैं।

मैं आंटी की बहुत ही रफ्तार के साथ जबरदस्त चुदाई कर रहा था और आंटी को संपूर्ण कामुकता आनंद दे रहा था।

फिर आंटी ने मुझे नीचे लिटा दिया और वह मेरे लंड के ऊपर बैठ गई और अपनी गांड को खुदाना चालू कर दिया।

मुझे कुछ भी नहीं करना पड़ रहा था मैं बस आराम से सोने पर लेटा था और आंटी अपनी बड़ी सेक्सी गांड को मेरे लंड पर खुद ब खुद खुद आ रही थी।

सच में बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था, मैं तो मन ही मन सोच रहा था उस चुटिया शर्मा अंकल को तो बहुत ही मस्त बीवी मिल गई है। ऐसी बीवियों के बारे में तो मैंने बस Indian Sex Stories में ही पड़ा था।

और आंटी, मेरी जबरदस्त चुदाई कर रही थी वह मेरे लंड पर अपनी गांड को बहुत जोर जोर से मार रही थी और बोल रही थी – आ आ आह मज़ा आ रहा है न, सुरेश…?!!

मेने बोला – हां… आंटी… बहुत मज़ा आ रहा है और चोदो मुझे!!

और फिर कुछ ही देर में हम दोनों का झड़ने वाला था और मैंने आंटी को थोड़ा सा ऊपर करा और उनकी जबरदस्त चुदाई करना चालू कर दिया।

आंटी मेरे लंड पर बैठी हुई थी और मैं उनकी चूत की जबरदस्त चुदाई कर रहा था आंटी के बड़े-बड़े स्तन खूब ऊपर नीचे हो रहे थे और आंटी मुझे साथ में जो मैं भी जा रही।

कोरोना में आंटी की चुदाई, इन सब चीजों से मुझे अलग ही स्तर का वासना आनंद प्राप्त हो रहा था और मैं एकदम पागल ही हो रहा था तो मैं आंटी को और जोर-जोर से चोदे जा रहा था।

फिर बस मेरा झड़ गया और मैंने अपना सारा माल आंटी की चूत में झाड़ दिया। आंटी को भी चरम सुख की प्राप्ति हो गई आंटी – आ! आह! आह! आह! अहह… अहह…. आ! आ! आ! मज़ा… आ… गया…! 

और वह मेरे ऊपर गिर गए और उनकी गांड काँपने लग गई थी मेरी जुदाई से।

और हम दोनों एक दूसरे की सांसों में सांसे भरने लगे हम दोनों चुदाई करके बहुत ही ज्यादा थक गए थे।

और फिर हम दोनों नंगे ही वासना थकान के मारे नशे में सो गए।

तो कैसी लगी आपको ये मजेदार वयस्क Non Veg Story सुरेश द्वारा भेजी गई। आशा करते है आपको मज़ा आया होगा, यदि हां? तो इससे शेयर करे और ऐसी ही हमारी वेबसाइट पर आते रहे।

और आप हमे अपनी भी अन्तर्वासना कहानी भेज सकते है।

error: Content is protected !!