बीवी के साथ की रंगीन चुदाई

मेरी बीवी बहुत ही मतलब कुछ ज्यादा ही शर्माती थी सेक्स करने से। तो एक रात परेशान होकर मैने उसको जबरदस्ती चोदा और खूब चोदा। मेरा नाम रवि शंकर है और यह मेरी अंतर्वासना कहानी है बीवी के साथ की रंगीन चुदाई जो कि मैंने इस वेबसाइट पर साझा करी है।

मुझे अपनी बीवी के साथ रोमांस करे हुए, मतलब चुदाई करे हुए लगभग 2 हफ्ते से ज्यादा हो गया था। मेरी बीवी बहुत ही शर्मीली थी वह जल्दी सेक्स करने के लिए मानती नहीं थी। हमारी हाल ही में शादी हुई है लगभग कुछ 5 महीने पहले ही और वह अभी भी बहुत ज्यादा शर्माती है।

मेरी बीवी बहुत ही गजब की सेक्सी और सुंदर औरत है जिसे देखकर किसी भी आदमी का लंड खड़ा हो जाए। मेरी बीवी का बल खाता हुआ बदन उसके बड़े बड़े स्तन और प्यारा सा चेहरा इतना ज्यादा मनमोहक है कि मैं क्या ही बताऊं।

परंतु इन सब का फायदा क्या?! जब मैं अपनी बीवी की चुदाई ही नहीं कर सकता था। आज मैंने अपने दोस्तों के साथ थोड़ी सी पी ली थी। मैं घर पर देर रात से पहुंचा और मेरी बीवी सेक्सी नाइटी पहनकर मेरा इंतजार कर रही थी।

वह बहुत ही ज्यादा गुस्से में थी और कह रही थी आज के दिन भी तुम घर देर से आए हो। मैं उसको देखते ही उसके चिपट गया और उसे गर्दन के पास चूमने लगा।

मेरी बीवी ने मेरी दारु की बदबू सुंघली और बोली – तुम पी के आए हो?!!

मैंने नशे की हालत में कहा – अब छोड़ो भी आज ही के दिन तो पी है वैसे भी कौन सा रोज रोज पीता रहता हूं…!!

और आज तो खुशी का दिन है – कम से कम आज तो मान जाओ ना चलो आज रोमांस करते हैं।

मेरे बेबी ने गुस्से से कहा – नहीं!!

मैं उसे मनाने की कोशिश करे जा रहा था… परंतु वह मेरी बात नहीं मान रही थी फिर मेरी अंतर्वासना चरम सीमा पर पहुंच गई।

और मैंने अपनी बीवी को जबरदस्ती गले लगा लिया और उसके होठों को चूमने लगा।

मेरी बीवी बोली – मुझसे दूर हटो… तुम्हारे मुंह से दारू की बदबू आ रही है…!

मैंने उसकी किसी भी बात पर ध्यान नहीं दिया और मैं उसकी गर्दन पर चूमने लगा मैं जोर-जोर से, उसके स्तनों को दबाने लगा, उसकी गांड को दबाने लगा।

मेरी बीवी – हटो… दूर हटो तुम… क्या कर रहे हो? तुम तो जबरदस्ती पर उतर आए!!!

मैंने बोला तुम इतना ज्यादा शर्म आती हमारी शादी को चार-पांच महीने हो गए और मैंने तुम्हें 2 हफ्ते से छुआ तक नहीं है।

अपना लंड खड़ा करने के लिए हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करे !!

follow antarvasnastory on instagram

अब ज्यादा नाटक मत करो और चुपचाप बिस्तर पर लेट जाओ।

वह नहीं लेती, तो मैंने उसे बेड के ऊपर धक्का दे दिया और उसकी नाइटी को ऊपर करके उसकी चूत में अपनी दो उंगलियां घुसा दी।

और मैं अपनी उंगलियों को बहुत ही जोर जोर से उसकी चूत में अंदर-बाहर करने लगा जिससे उसके स्तनों पर नीचे थप्पड़ थप्पड़ ही रहे थे।

धीरे धीरे मेरी बीवी को भी वासना चड़ गई और वह शांत हो गई, उसे मजा आने लग गया फिर अपनी बीवी को मैंने पूरा नंगा कर दिया।

और मैं अपनी बीवी के सेक्सी पतन को चूमने लगा मैं उसके होंठों को चूसने लगा अपनी जवान से जवान उसके साथ लड़ाने लगा।

फिर मैं धीरे-धीरे उसकी गर्दन तक पहुंचा गर्दन से मैं उसके स्तनों तक पहुंचा फिर उसके बाद में उसके पेट को चूमते-चूमते उसकी योनि तक पहुंच गया।

मैं अपनी जबान से अपनी बीवी की योनि चूत को चाटने लगा और चाटने में बहुत ही मजा आ रहा था। मेरी बीवी की चूत किसी दारू के बाद चकने की तरह काम कर रहे थे जिससे मेरा नशा और बढ़ रहा था मेरी अंतर्वासना और जाग रही थी।

मैंने अपना लंड निकाला और फिर से अपनी बीवी की चूत में पूरा तटटो तक घुसा दिया। वो एकदम से चीख पड़ी और बोली – तुमने बहुत जोर से घुसा दिया!!

मैंने हंसते हुए बोला – यही होता है जब पति को दो हफ्तों तक खुशी ना दो।

और फिर मैं बहुत ही तेजी से अपने लंड को अपनी बीवी की चूत में अंदर-बाहर करने लगा। मैंने अपनी बीवी की दोनो टांगे उसकी गर्दन तक पीछे कर दी और घचाघच उसकी चूत की चुदाई करनी चालू कर दी।

मेरी प्यारी बीवी – आ आ आ अहह उह!!!

मैं अपनी बीवी की बहुत ही जबरदस्त चुदाई कर रहा था अपने लंड को उसकी चूत में अंदर-बाहर बहुत ही तेजी से कर रहा था जिसमें उसके चुचे भी ऊपर नीचे हो रहे थे।

उसको चोदने के साथ साथ, में उसे चुम भी रहा था, मैं उसके जबान को चाट रहा था उसके पूरे चेहरे को चाट रहा था।

मेरी बीवी – क्या कर रहे हो आज तुम्हें क्या हो गया है?!! बहुत ही ज्यादा जोश में आ रहे हो!

रवि… बहुत मजा आ रहा है…. ऐसे ही करा करो… ऐसे ही मेरे साथ रोमास करा करो… बेबी!!

यह सुनकर मैं और भी ज्यादा उत्तेजित हो गया और मैंने अपनी बीवी को घोड़ी बनाया और उसकी गांड की चुदाई करने लग गया।

बीवी – आ आ आ आ अहह…

मैं चोदते चोदते उसके चूतड़ों पर थप्पड़ भी मार रहा था और उसके कमर को पकड़ कर बहुत जोर जोर से चुदाई कर रहा था।

जितनी बार भी मैं अपने लंड से अपनी बीवी की गांड पर झटका मारता था उतनी बार उसके चूतड़ थप्पड़-थप्पड़ हिलते थे किसी आटे की गोंडा की तरह।

बहुत ही मजा आ रहा था मेरा लंड थमने का नाम ही नहीं ले रहा था फिर मैं नीचे लेट गया और मैंने अपनी बीवी को अपने ऊपर बैठा दिया।

बीवी – क्या बात है रवि… आज तो तुम बहुत ही ज्यादा क्रिएटिव हो रहे हो!!!

वह अपनी बात खत्म ही कर पाई थी की मैंने थप्पड़ थप्पड़ खचाखच उसकी चूत की चुदाई करना चालू कर दिया

बीवी – आ! आ!! मुझे बोल तो लेने देते तुमने चालू कर दिया!!!

मैंने बोला – वैसे भी बोल बोल कर तो सिर्फ पकाती रहती हो!!

और मैं उसकी घचाघच उसकी चूत की चुदाई कर रहा था 15 अगस्त के दिन मेरे लिए तो आज का दिन बहुत ही बढ़िया निकल गया।

और फिर कुछ ही देर में मेरा झड़ने वाला था मैंने अपना सारा माल अपनी बीवी की चूत में झाड़ दिया। अपने अखरोटों की एक-एक बूंद मैंने अपनी बीवी की चूत में भर दी जिससे वह जल्दी मां बन सके।

और वह रात हमारी बहुत ही रंगीन और हसीन रही और हम दोनों को बहुत ही ज्यादा मजा आया।

इसके बाद से हम दोनों में प्यार और ज्यादा बर गया और हम रोज रोज चुदाई करने लगे। कई बार तो हम Hindi Sex Stories को पड़ने के बाद चुदाई करते थे जिससे और ज्यादा मज़ा अत था।

आप अपनी भी कहानी हमें साझा कर सकते है रवि शंकर की तरह, जिसे हम अपनी वेबसाइट AntarvasnaStory.Net पर डालेंगे दुसरो के मनोरंजन के लिए।

ज्यादा जानने के लिए हमारा Submit your story पेज देखे। जिसे आप Menu बटन या फिर इस  वेबसाइट के आखिर में खोज सकते है, बड़ी ही आसानी से।

error: Content is protected !!