बीवी और बहन को चोदा घोड़ी बना कर

इस सेक्स स्टोरी के लेखक मनोज तेलंगाना के हैं। वह कई अलग-अलग यौन हितों के साथ 32 वर्षीय व्यक्ति है। अपनी पत्नी और बहन की पहचान गुप्त रखने के लिए उन्होंने कहानी में आने वाले सभी व्यक्तियों नाम बदल दिया है। मनोज अपनी कहानी बीवी और बहन को चोदा घोड़ी बना कर में बता रहे है की जब बीवी को पता लगा की वो और उनकी बहन के बीच योनसंबंध है तो आगे क्या हुआ। 

मेरा परिवार काफी छोटा है। मैं अपने बीवी और बेटा के साथ रहता हूँ। मेरे माँ बाप और बहन अलग रहते है। 

करीब 22 साल की उम्र में मेरा अपनी छोटी बहन से योनसंबंध बहने। ये सब हम दोनों की मर्जी से हुआ और हम खुश भी थे। आज हमें उस गलती का एहसास होता है। तब हम दोनों में जवानी का जोश रहता था। 

मेरा लंड हमेशा तना रहता था और बहन की चुत गीली। हमने जवानी के दिनों में काफी चुदाई की और घर वालो को कुछ नही पता लगा। पर जब हमारी शादी की उम्र होने लगी तो हमें समझ आया की हमने कितनी बड़ी भूल की। 

अब हम दोनों की शादी हो चुकी है पर आज भी मुझे अपनी बहन की याद आती है क्युकी वो ही तो आखिर मेरा पहला प्यार है। और पहली चुदाई कौन भूल सकता है भला ?

माँ बाप अलग रहते थे पर उनका घर खर्च मैं देता था पूरा। उस सुबह मेरी बहन माँ से मिलने उसके घर गई। पिता जी पार्क में योग करने गए थे। 

माँ ने कहा – बेटा रजनी मनोज को बोल देना राशन खत्म हो गया है पैसे चिहिए थे। 

माँ को फ़ोन चलना नही अत था तो उन्होंने रजनी से फ़ोन करवाया। 

रजनी – भइया माँ ने कहा है राशन ख़त्म हो गया है। 

क्युकी मैं स्कूल टीचर हूँ मेने कहा – रजनी आज मुझे काफी काम है मैं राशन घर तो नही छोड़ सकता। मैं स्कूल से घर जाते हुए राशन ले लूंगा और तुम मेरे घर से ले जाना इस बहाने मैं तुमसे मिल भी लगा।

जब रजनी घर हुई तो मेने दरवाजा खोला। रजनी ने मुझे सबसे पहले गले लगाया और खूब बाते करने लगी। 

जब उसने मुझे लगे लगया उसके स्तन मेरी छाती से चिपक गए और मुझे अपने पुराने दिन यद् आने लगे जब मैं उसकी चुदाई किया करता था। 

बेटा ट्यूशन के लिए गया था और बीवी ब्यूटी पार्लर मोके का फायदा उठा कर मैं अपनी बहन की कमर छूने लगा। 

बहन – अरे ?? क्या हुआ भइया ?

मेने कहा – बस तुम्हारी याद आती है।

बहन – ओहो क्या इरादा है ? इतने टाइम बाद ये करा कुछ अजीब नही है ?

मेने कहा – न तब हमें कोई रोक स्का न अब कोई रोक सके गए।

मेने अपनी बहन को उठाया और उसे अपनी गोद में बिठा कर चूमने लगा। हाथो से मैं उसका शरीर हर जगह से छूता रहा। मेरी बहन का शरीर किसी देसी भाभी जैसा कामुक हो चुका था। 

तभी मेरी बीवी ने दरवाजा खोला और मुझे और रजनी को कामवासना की अवस्था में देख लिया। 

ये देख मेरी बीवी हैरान हो गई और मुझे और मेरी बहन को देखने लगी। शादी के इतने साल बाद बदनामी और तलाक के झंझट की वजह से मेरी बीवी कुछ नही बोली। 

पर वो मेरे माँ बाप को न बता दे इसलिए मेरी बहन ने उसका हाथ पकड़ा और उसके अपने पास बिठा लिया। मेरी बीवी हम दोनों के बीच बैठी थी। 

मेरी बहन ने उसका हाथ लिया और मेरी लंड पर रख दिया। बीवी ने गुस्से में मेरा लंड मसलना शुरू कर दिया। 

बीवी – थोड़ी शर्म बची है या बेच खाई ?

बहन – भाभी इतना गुसा मत करो उन्हें दर्द हो रहा है। 

मेरे पास बोलने को कुछ नही था पर मेरी बहन ने बीवी का मूड बदलने के लिए उसके होठो पर चूमना शुरू किया और उसकी साड़ी में हाथ डाल कर चुत छेड़ने लगी। 

मौका देख मेने अपनी बीवी का ब्लाउज खोला और उसके स्तन प्यार से मसलने लगा। कुछ देर बाद बीवी का गुस्सा कामवासना के आनंद में कही खो गया। 

मेने अपना लिंग बाहर निकला और मेरी बहन और बीवी एक साथ उसपे मुँह मारने लगी। 

कभी वो एकदूसरे को चूमती और कभी मेरे लिंग को चाटती और चुस्ती। बीवी और बहन को एक साथ अश्लील हरकते करते देख मेरा लिंग जवानी के दिनों की तरह फूलता गया। 

मेरा सतख और नसों से भरा लिंग देख दोनों की चुत से पानी रिसने लगा। मेने अपनी बीवी को घोड़ी बनाया और उसकी चुत की चुदाई करने लगा। 

बहन मेरे पुरे शरीर को चूमने लगी और मुझे किसी राजा की तरह महसूस होने लगा। 

मेरे लंड की चुदाई से बीवी की चीखे निकलने लगी। उसके आगे पीछे हिलते स्तन देख मैं और जोर दार धके मारने लगा। साथ में बहन को भी बीवी के साथ घोड़ी बनाया और उसकी चुत गांड में ऊँगली करने लगा। इस तरह मेने अपनी biwi aur behan ko choda और जवानी के दिन याद करने लगा। 

बीवी – अहह और अंदर डालो !! बस थोड़ा और अंदर !!

बहन – भाभी मुझे चूमो होठों पर।

बीवी की मोटी गांड और बहन की पतली कमर मेरे सामने थी। उस वक्त में सोचने लगा की काश मेरे दो लंड होते !

फिर मेने अपना लिंग निकला और बहन की चुत में डाल दिया। बीवी ने उसकी चुत के निचे मुँह किया और मेरा लंड अंदर बाहर जाते देखने लगी। 

मेने अपनी बीवी की काली चुत के पानी से सना लंड अपनी बहन की गोरी चुत में घुसा दिया था। कभी में उन्दोनो की गांड चोदता तो कभी चुत। उसके मुँह मिला कर मेरे पास 6 छेद थे चोदने को और लंड सिर्फ एक। 

बहन की चुदाई करते करते मेने उसकी चुत की सफ़ेद मलाई निकल दी जो सीधा मेरी बीवी के मुँह पर गैलरी। 

बहन को संतुष्ट करने के बाद मेने अपनी बीवी के पैर खोले और उसकी चुत पर अपने लंड का गुम्बज रगड़ता रहा। 

बीवी की चुत लाल होने लगी और तेजी से पानी छोड़ने लगी। 

उसकी चुत का रास देख मैं भी अपनी चरम सीमा तक आ पहुंचा और मेने अपना सारा माल उसकी चुत में छोड़ दिया। 

ये थी मेरे परिवार की चुदाई की कहानी। जब मेने अपनी बीवी और बहन को चोदा घोड़ी बना कर तब मेने अपनी बीवी को राजी कर लिया। उसके बाद हम कई बार ग्रुप सेक्स करते रहे। 

error: Content is protected !!