बहन निकली चुत की रानी

मैं पुणे का रहने वाला 23 साल का लड़का हूँ। मेरा नाम रशीद है और ये मेरी भाई बहन की चुदाई की कहानी करीब 2 साल पहले की है। जब मैं नया नया कॉलेज में गया था। 

उनदिनों कॉलेज के लड़के रंडिया चोदने के लिए कॉल गर्ल्स सर्विस बुक करते थे। पता नही कैसे और किसको एक आदमी मिला जो जवान लड़किया सप्लाई करता था। वो लड़के हफ्ते में कई बार एक साथ लड़किया चोदा करते थे। मेने कई बार उनके बीच हो रही ग्रुप सेक्स और गांड चुदाई की बाते सुनी। 

फिर मेरा भी मन सेक्स करने को होने लगा। मेने उनमे से एक लड़के से बोला मुझे भी कोई लड़की एक रात के लिए किराये पर चाइये तुम कहा से लेते हो?

उस लड़के ने कहा – एक आदमी है जो हमें लड़की के साथ साथ होटल के कमरे का भी जुगाड़ करके देता है। 

मेने कहा – कितने पैसे लेता है वो ?

उस लड़के ने कहा – उसके अलग अलग रेट है। बोलता है अगर एक रत की चुदाई करनी है तो दस हजार और अगर उसकी सबसे पटका लड़की के साथ सेक्स करना है तो वो करीब बिस हजार लेता है। 

मेने कहा – भाई ये कुछ ज्यादा नही है? कुछ सस्ता जुगाड़ नही है क्या?

लड़का बोला – हाँ है तो जब मेने उसकी सबसे सेक्सी लड़की की चुदाई की थी तो मेने उस लड़की को बोला था “मैं तुम्हे पांच हजार दुगा हर चुदाई के इसे बीच में से वो डीलर पैसे नही खा पायेगा और तुम ज्यादा कमा मोली और मुझे थोड़ा सस्ता पड़ेगा।” 

मेने कहा – भाई मेरी भी बात करलो उस लड़की से। 

उसने हाँ बोला और अगली रात के लिए मेरी सेटिंग कर दी। वो लड़का मुझे उस लड़की के होटल में ले गया जहा वो गांड देती थी। 

जब दरवाज़ा खुला तो मेरी आँखे फटी की फटी रह गई और मेरा गाला सुख गया। 

बिस्तर पर जो लड़की आधी नागि थी और मेरी इंतज़ार कर रही थी वो मेरी बहन आरज़ू थी। 

आरज़ू भी मुझे देख कर आँखे नही मिला पा रही थी। बस उसी पल में हम दोनों की आँखों में एक दूसरे की इज़त गिर गई। वो दिन मुझे हमेशा यद् रहेगा क्यों की उस दिन मुझे पता लगा की मेरी बहन निकली चुत की रानी। 

उस लड़के ने मुझे धका दे कर आरज़ू के ऊपर गिरा दिया और बोला ” क्या हुआ यार अब ये लड़की पूरी रत तेरी है “

मैं अपनी बहन के साथ सेक्स नही कर सकता था पर अगर उस लड़के को पता लग जाता की जिसे मैं चोदने आया हूँ वो मेरी बहन है तो वो समाज में बात फैला देता और मेरा और मेरी बहन का मज़ाक बन जाता।

उसे कुछ अजीब ना लगे इसलिए मेने अपने बहन की छाती पर हाथ रखा और उसके स्तन सहलाने लगा। मेरी बहन भी समज गई में ऐसा क्यों कर रहा हूँ। इसलिए वो भी मुझे चूमने लगी।  

फिर वो लड़का दरवाजा बंद कर के वह से चला गया।

पर फिर भी मैं अपनी बहन को चूमता रहा और उसके स्तन दबाता रहा। तभी आरज़ू ने मुझे धका दिया और कहा ” क्या कर रहा है अब तो वो चला गया। “

मेने कहा – वही कर रहा हूँ जिसके लिए आया हूँ। और तू भी वही कर जिसके लिए मेने तुझे पैसे दिए है। 

आरज़ू ने कुछ नही बोला और बोली भी क्या कुछ बोलने को बचा ही नही था। 

मेने अपनी बहन की ब्रा उतारी और उसके स्तन चाटने लगा और एक हाथ उसकी पैंटी में घुसा कर उसकी चुत में उनलगी करने लगा। 

मेरी बहन का शरीर गर्म हो गया और वो कामुक महसूस करने लगी। 

फिर मेने अपने कपडे उतारे और अपने बहन की पैंटी उतार कर उसे बिस्तर पर लेटा दिया। मेने अपने लंड पर थूका और अपनी बहन के दोनों पैर ऊपर कर के उन्हें गले लगा लिया और अपना लोडा उसकी गोरी चुत में घुसा दिया। 

लंड डालते ही मेरी बहन ने एक आवाज नही निकली क्यों की वो हर रोज़ किसी ना किसी को अपनी चुत देती थी। 

उसकी चुत का छेद काफी बड़ा हो गया था जिसकी वजह से मेरा लंड पूरा अंदर समा गया। 

मैं आरज़ू को चोदने लगा और धीरे धीरे हम चुत लण्ड के खेल में खो गए। हमको इतना मज़ा आने लगा की हम ये भूल गए की काम दोनों का रिश्ता क्या है। 

हमने जी भर सेक्स किया और मेने रात को कई बार अपनी बहन को चोदा। चुदाई के दौरान मेरी बहन में जोश भर गया और वो मुझे गालिया देते हुए मेरे गोटे दबाने लगी। 

मैं उसकी चुत चोद रहा था और वो मेरे गोटे दबा रही थी। ना जाने क्यों गोटो का दर्द मुझे मज़ा दे रहा था और मेने अपनी मेने को बोला “और कर। दबती जा”

आरज़ू – भइया मुझे मारो !! अहह मुझे चाटे मारो। 

ये बात सुन कर मैं अपनी बड़ी बहन को चाटे मारते हुए चोदने लगा। मेने मार मार कर अपने बहन के दोनों स्तन और उसका चेहरा लाल कर दिया। 

पसीने में गीले हो कर मेने अपनी बहन की गांड चोदना शुरू कर दिया। बहन को तभी दर्द का मज़ा आने लगा और उसकी चुत से सफ़ेद अपनी निकला। 

वो पानी देख मुझ से रहा नही गया और मेने आरज़ू दीदी की गांड में अपना लंड झाड़ दिया। 

मेने इतना साला निकला की दीदी की गांड के छेद से बून्द टपकने लगी। 

फिर मेने कपड़े पहने और वह से जल्दी से निकल गया। 

उस रत मेने अपनी बहन को पहली और आखरी बार एक रंडी के तरह देखा। मेरी बहन ने भी मुझे उस रत सिर्फ एक ग्राहक की तरह देखा और हमने उस दिन के बारे में कभी बात नही की। पर आज भी हम एक दूसरे के शरीर को कामवासना की नियत से देखते है। 

ये सब हमने घर वालो से छुपाया। एक दूसरे के राज़ को राज़ रख कर हम खुद को बचा रहे थे और आज भी बचा रखे है। ये थी मेरी रिश्तों में चुदाई की कहानी उम्मीद करता हूँ आपको मेरी बहन आरज़ू की चुदाई अच्छी लगी होगी।  

error: Content is protected !!