बहन को चोदा और बीवी बनाया

ये बहन की चुदाई कहानी आगरा के 29 साल के आदमी की है। अपनी पहचान छुपाने के लिए इस कहानी के लेखक ने अपना नाम रमन बताया है। और अपनी बहिन का सोनल। अपनी सेक्स कहानी बहन को चोदा और बीवी बनाया में रमन बता रहे है की जब वो 25 साल के थे तो उन्होंने अपनी छोटी बहन के साथ शारीरिक संबंध बनाये। और जब दोनों एक दूसरे के प्यार में पागल हो गए तो उन्होंने उठाया कड़ा कदम। 

मैं अन्तर्वासना स्टोरी का धन्यवाद करता हूँ की मुझे अपनी बहन की सेक्स कहानी प्रस्तुत करने का मौका दिया। अगर आपको मेरी कहानी अच्छी लगी तो कृपया कमेंट करके जरूर बताये। 

मेरी ये कहानी आज से करीब 3 से 4 साल पहले की है। मेरी परिवार बस 3 सदस्यों का है। मैं मेरी छोटी बहिन और मेरी सौतेली माँ। मेरी असली मां 6 साल पहले किडनी खराब हो जाने की वजह से चल बसी थी। पिता जी पैसे वाले आदमी थे तो उन्होंने दूसरी शादी कर ली। 

जिस औरत से उन्होंने शादी की उन्हें तो बस पिता जी की जायदात और पैसा चाहिए था। हमारी सौतेली माँ ने हमारा पूरा परिवार बर्बाद कर दिया। सौतेली माँ पिता जी से हर रोज झगड़ा करती। ना पिता जी को सही वक्त पर खाना मिलता न दवा। टेंशन के मारे पिता जी भी चल बसे। 

मेने अपनी छोटी बहिन को वो हर ख़ुशी दी जो वो चाहती थी। मैं उसके लिए एक माँ और बाप बन चुका था। पर जब मैं उसे गन्दी नज़रों से देखने लगा तो मेने उसे एक पति का प्यार भी देना शुरू कर दिया। 

ये सब तब हुआ जब मेरी बहन 12 कक्षा में थी। उस सुबह मैं उसका खाने का डिब्बा बना रहा था। 

मेरी बहन मेरे पास आई और बोली – भइया मेरी स्कूल की ड्रेस छोटी हो गई है मुझे नई चहिये। 

मेने कहा – ड्रेस छोटी नही तुम लम्बी होती जा रही हो। 

बहन – भइया आज दिला देना मेरी शर्ट भी काफी टाइट हो गई है। 

मेने अपनी बहन के शरीर पर नजर मारी तो पता लगा उसके स्तन पहले से बड़े हो चुके थे। सफ़ेद शर्ट से उसके मोटे निपल्स मुझे साफ दिख रहे थे। 

शर्ट के खींचते बटन मेरे मन को ललचाने लगे। बहन की पिंक ब्रा मुझे दिख रही थी और मैं उसके शरीर को देख कुछ देर कामुक हो गया। 

बहन – क्या हुआ भइया ? और हाँ मेरी स्कर्ट भी छोटी हो गई है वो भी लेनी है। 

जैसे ही बहन ने ये कहा मेरी नजर उसके गोरे और सुंदर पेरो पर पहुंची। उसकी मोटी और नरम जांघ देख मेरा दिल उसकी स्कर्ट में हाथ डालने को करने लगा। 

मेने कहा – पहले मुझे देखने दो कहा से टाइट है तुम्हारी शर्ट !

मेने बहन को पास बुलाया और उसकी कमर पर दोनों हाथ रख कर उसे कामुक तरीके से छूने लगा। कमर से हाथ फेरते फेरते मैं उसके स्तनों की और ले गया। बहन हैरानी के साथ मेरी आँखों में देखने लगी। 

मेने धीरे से अपना हाथ उसके स्तनों पर रखा और – ओह अच्छा तो यहाँ से टाइट है। 

उस पल मेरे दिमाग में कुछ नही आया। मेरा बस ये लक्ष्य था की किसी तरह उसके मुलायम स्तन एक बार हाथ में लेलु। 

बहिन थोड़ा डर गई क्युकी मेने उसे इस जगह कभी नही छुआ था। उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे देखने लगी। 

मेने कहा – रुको पहले में देख लेता हूँ की शर्ट यहाँ से टाइट क्यों है भला !

मेने उसका हाथ हटाया और उसकी शर्ट के दो बटन खोल दिए। 

बहन शर्माते हुए – क्या ? ये क्या कर रहे हो भइया !!

मेने उसे गुस्से से देखा और कहा देखो  मुझे फालतू का खर्चा बढ़ाना पसंद नही पिता जी के जाने के बाद सब बदल गया है हम पहले जैसे नही है अब। 

ये सुन बहन चुप हो गई और मेरे हाथ नही रोके। रोकती भी कैसे क्यों की वो मेरी हर बात मानती थी। 

मेने उसकी शर्ट खोली और उसकी सुंदर ब्रा में मोटे स्तन देख मेरे मुँह से पानी आने लगा।  

मेने उन्हें अपने हाथो से दबोचा और चूमने लगा। मेरी बहन को मेरी जीभ का चाटना और मेरे होठो का चूसना इतना अच्छा लगा की वो गहरी सासे लेने लगी। 

बहन – भइया !! अहह मत करो ये सब हमारे लिए ठीक नही है !!!

मेने कहा – हमें जिसमे आनंद मिलेगा हम वो काम करेंगे। 

कुछ देर के रोमांस और चुम्बा चाटी के बाद मेरा लंड तना हुआ था और बहन की चुत भीगी। 

मेने बहन की स्कूल की छूटी करा दी थी ताकि हम चुदाई कर सकें। हम दोनों कामवासना से मिलने वाले आनंद के पीछे भागने लगे और भूल गए की हम भाई बहन है। 

मेने बहन की स्कर्ट में हाथ डाला और उसकी पैंटी खींचने लगा। उसकी चुत के पानी से पैंटी गीली हो चुकी थी। 

चुत पर रगड़ खाती पैंटी बहन को सेक्स का जो आनंद दे रही थी वो उसके चेहरे से दिखने लगी थी।

वो सासे धीमी और गहरी लेने लगी और उसकी आंखे नशीली हो गई। मैं उसे प्यार से उठाया और चूमता हुआ बिस्तर पर गिरा दिया। 

 बहन (मुझे रोकते हुए) – भइया ये करना ठीक है क्या ??

मेने कहा – सही या लगत बताने वाला कोई नही है यहाँ। तुम बस आनंद लो। 

इसके बाद मेने बहन की स्कर्ट ऊपर की और उसकी पैंटी के बगल से होते हुए अपना लिंग उसकी योनी में डाल दिया। 

चुत इतनी चिकनी थी की लंड फिसलता हुआ गहराई में जा पंहुचा। अचानक बहन ने मीठे दर्द से कराहना शुरू कर दिया। 

4 से 5 धको के बाद मेने देखा बहन की चुत से हल्का सा खून निकलने लगा। मैं समझ गया की ये मेरी बहन की पहली चुदाई है और मेने उसकी सील तोड़ दी। 

बहन दर्द सहन नही कर पा रही थी और मैं रुक नही सकता था। मेने बहन की आँखों में देखा और कहा थोड़ा दर्द होगा सहन कर लेना। 

फिर मेने अपना लिंग धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा। बहन ने चिलाना शुरू कर दिया और मेने उसके मुँह पर हाथ रख दिया। 

गीली और मलाईदार चुत का मजा मेने भी पहली बार लिया और ऊपर से उसके रसीले स्तन देख मेरा जोश मानो आसमान छूने लगा। 

मेने कहा – बस अब और नही। 

बहन – मतलब ?

ये कह कर मेने अपनी बहन की जबरदस्त चुदाई शुरू कर दी। बहन का मुँह बंद कर के मैं उसे मजे से चोदता रहा और वो दर्द से चिलाती रही। 

मेने उसके पैर खोले और उसके ऊपर चढ़कर अपने लंड से चुत पर जोरदार धके मारने लगा। 

अपनी बहन का कामुक और मादा शरीर देख मेरा दिल उसे सारा रस निचोड़ लेने का करने लगा। 

चुत चोदते चोदते मैं उसके स्तन बारी बारी से चुस्त रहा और उन्हें लाल करता रहा। 

बहन की ख़ुशी और दर्द एक साथ देख मैं अपने कूल्हों पर काबू न कर स्का। 

मेरे कूल्हों की मार और लंड की तेज रगड़ से मेरी बहन की चुत लाल हो कर फूल गई। इस तरह मेने अपनी बहिन को चोदा और बीवी बनाया। 

पहली बार हर किसी को दर्द होता है पर जब मेने अपनी बहन की मलाई निकाली तो उसका दर्द मानो गयाब हो गया। मेने उसकी चुत में अपना सारा रस निकाल दिया और उसके ऊपर गिरकर उसके करीब 30 मिनट तक धीरे धीरे चूमता रहा। 

मेने उन 30 मिनट तक अपना लंड उसकी चुत के अंदर ही रखा वो भी इस उमेद में की वो फिर फूल जायेगा और मैं अपनी बहन की चुदाई फिर करने लग जाउगा। 

पर ऐसा नहीं हुआ और इतनी जबरदस्त बहन की चुदाई के बाद ऐसा होना ही था। जब मेने अपना लिंग बाहर निकाला तो देखा बहन की चुत से धीरे धीरे लंड चुत की मलाई रिस्ते हुए बाहर आने लगी। 

बहन की चुत और मेरा पूरा लिंग लाल था और दोनों में ही हल्का दर्द होने लगा। 

तभी मेरी बहन ने कहा – भइया ये दर्द जो अपने मुझे दिया है मैं आज से इसके लिए ही जीने वाली हूं !!

उस सुबह के बाद हम दोनों का भाई बहन का रिश्ता पति पत्नी में बदल गया। 

मेरी बहन मेरे माल से गर्भवती हो गई। हम दोनों में इतना गहरा प्यार हो गया की हमने शादी कर ली और दूसरे शहर चले गए जहा हमें कोई नही जनता था। 

आज तक किसी को नही पता की हम भाई बहन है। हमने अपनी पिछली जिंदगी कही पीछे छोड़ दी। क्यों की हमारी माँ सौतेली थी उसको कोई फर्क नही पड़ा की हम कहा गायब हो गए। 

इस तरह मेने अपनी Behan ko Choda aur Biwi Banaya और मुझे इस बात पर कोई शर्म नही क्यों की हम दोनों खुश है और यह मेरे लिए मायने रखता है।