आंटी की गैर मर्द से मदमस्त चुदासी देखी; सेक्सी आंटी की चुत की चुदाई

नमस्कार दोस्तों, मैं हूं अंकुर. मैं इस वेबसाइट का नियमित पाठक हूं! मैं जब भी वेबसाइट पर स्टोरी पड़ता था तो खुद से यह सोचता था क्या यह सब सच होता है या सब फंतासी लिखते हैं, लेकिन एक दिन मेरी जिंदगी में एक ऐसा हादसा हुआ जिसने मेरी पूरी जिंदगी ही बदल दी.
तो मेरी जिंदगी से जुड़े कुछ किस्से मैं आप लोगों के साथ साझा करना चाहता हूं, मैं पहली बार कोई कहानी लिख रहा हूं तो अगर मुझसे कुछ भूल चूक हो जाती है तो उसे माफ करिएगा
खैर कहानी आज से 4 साल पहले की है, उस वक्त मेरी उम्र 17 की थी और मैं 12वीं के कक्षा में पढ़ता था! जनवरी में मेरे मामा के लड़के की शादी थी, आप तो जानते ही हैं कि जनवरी में 12वीं के प्री बोर्ड एग्जाम होते हैं.. जिस वजह से मैं तो गांव नहीं जा सकता था. लेकिन मेरी मम्मी और मेरा पापा वह दो लोग ही गांव चले गए, पर मुझे यहां पर अकेला रहना पड़ा.
लेकिन मम्मी ने अपनी एक फ्रेंड जिनका नाम सुजाता था उनको बोल दिया था मेरा ध्यान रखने के लिए, सुजाता आंटी बहुत अच्छी थी उनको मै अपने माँ की तरह ही मानता था और वो भी मुझे बीटा ही मानती थी , मैं भी दिन के टाइम पर अपने फ्लैट में रहता था, पढ़ाई करता था और रात में खाने के टाइम पर उनके घर पर चला जाता था.

अश्लील आंटी की चुत की चुदाई

उस टाइम तक मेरे दिमाग में यह सब उल जलूल बातें नहीं आती थी मैं सिर्फ अपना पूरा ध्यान पढ़ाई पर लगाता था.
प्री बोर्ड के पहले एग्जाम से 1 दिन पहले .. मैं रात में जागकर पढ़ाई करने का प्लान बनाया, मैंने आंटी को बोल दिया था ‘कि आंटी आज मैं रात में पढ़ाई करूंगा तो आप लोग सो जाना!’
 आंटी ने मेरे सर पर प्यार से हाथ फिरते हुए बोला ठीक है बेटा!
वह बोली कि किसी चीज की जरूरत हो तो मुझे आवाज लगा देना, उन लोगों का एक खुद का मकान था. जिसमें अंकल आंटी नीचे सोते थे और बच्चे ऊपर वाले कमरे में सोते थे और एक खाली गेस्ट रूम था जिसके अंदर में मै रह रहा था..
रात के करीब 12:30 हो रहे थे, मुझे बहुत तेज प्यास लग रही थी क्योंकि जो बोतल मेरे पास पड़ी थी उसमें का सारा पानी मैंने पी लिया था, और किचन जो था वह नीचे के फ्लोर पर था. फिर मैं नीचे की ओर बढ़ने लगा. मैं अपना पानी भारी रहा था कि तभी मुझे थोड़ी सी आवाज आने लगी.
मैंने पहले अपनी बोतल भरी और फिर बोतल को किचन में ही रख कर मैं उस कमरे की तरफ बढ़ा. वो अंकल आंटी का बेडरूम था, वहां मैं क्या देखता हूं अंकल बेड पर लेटे हुए हैं और आंटी उनका लंड चूस रही है.
अब यहां पर आंटी का इंट्रोडक्शन देना जरूरी हो जाता है, आंटी का नाम सुजाता है उनकी उम्र 35 साल है रंग गोरा है हाइट ज्यादा बड़ी नहीं है. हाइट तो उन की औसत ही है लेकिन बदन एकदम भरा पूरा है,
आंटी जब भी हमारे घर आती थी पूरा दुपट्टा डाल कर के आती थी उनका कोई लोअर क्लीवेज वाला भी मैंने ब्लाउज नहीं देखा था. एक दम सावित्री टाइप आती थी आंटी. मै उनके मेज़रमेंट तो नहीं जनता बबस ये ही कहूँगा की अगर हुमा कुरैशी की हाइट थोड़ी छोटी कर दो तो वो एक आंटी जैसी लगेगी
मैंने कभी उनको उस नजर से नहीं देखा था लेकिन आज जब मैं उनको नंगी देख रहा था तो मेरा अपने आप ही लंड खड़ा होने लगा. आंटी की पीठ मेरी तरफ थी और मुझे सिर्फ अंकल की शक्ल ही दिख रही थी और उनकी शक्ल पर वह साफ झलक रहा था कि किस तरीके से आंटी उनको तृप्त कर रही हैं!

हॉट आंटी की गांड चुदाई कहानी

आंटी की पीठ बहुत ज्यादा गोरी थी, उनको देखकर मानो ऐसा लग रहा था जैसे पोर्न मूवीस के अंदर पवन एक्ट्रेसेस गोरी होती हैं आंटी उतनी गोरी थी.. आंटी अपने घुटनों पर आ गई और अंकल का लंड चूसने लगी और उनकी चूत मेरी तरफ हो गई. उनकी चूत तो एकदम चिकनी और गुलाबी थी मैं ने जिंदगी में , असलियत में कभी भी चूत नहीं देखी थी.
सिर्फ पोर्न मूवीस में देखी थी और आंटी की चूत और उनके जैसी लग रही थी, आंटी घचाघच उनके लंड को अपने मुंह के अंदर बाहर बाहर कर रही थी. आंटी को अंकल का मुंह में लंड देखते हुए तो मैं रह नहीं पाया लेकिन यह इमेजिन कर करके मैं मेरा हाथ अपने आप मेरे कछे के अंदर चला गया!
अभी आंटी ने कुछ एक बार ही लंड मुह के अन्दर बाहर हुआ कि अंकल झड़ने को आ गए, अंकल बोले सुजाता में आ रहा हूं और उन्होंने आंटी का सर अपने दोनों हाथों से उनके लंड की तरफ दबा दिया!: अंकल ने अपना सारा वीर्य आंटी के मुंह में उड़ेल दिया!
आंटी को बिल्कुल भी पसंद नहीं आया और उन्होंने झल्लाते हुए बोला कि आप तो 2 मिनट भी नहीं टिक पाते हैं, तब अंकल ने आंटी के बालों में हाथ चलाते हुए बोला अरे जानेमन तेरा मुंह है ही इतना गरम कि क्या करूं मैं खुद को रोक नहीं पाता!
कोई बात नहीं हम कल करेंगे, आंटी ने अपना मुंह बनाया और वह बिस्तर से उठने लगी शायद वह अपना मुंह साफ करने के लिए बाथरूम की तरफ आ रही थी! मेरे पास बहुत कम टाइम था की भागकर ऊपर वाले कमरे की तरफ जाऊं इसलिए मैंने ऊपर ना जाकर वही नीचे पड़े सोफे पर लेटने की एक्टिंग कर दी!

सेक्सी मोटी आंटी की चुत चोदी और चाटी

आंटी शायद बाथरूम में गई और 5 मिनट के बाद जब वापस आई क्योंकि रूम में डिम लाइट जल रही थी और उन्होंने देखा कि मैं सोफे पर लेटा हुआ हूं, फिर उन्होंने देखा कि मेरे पास कोई कंबल वगैरह नहीं है तो वह अपने रूम से कंबल लेकर आई और वह मुझे कम्बल उड़ाने लगी!
 क्योंकि मैंने अभी अभी अंकल और आंटी का सेक्स देखा था जिसकी वजह से मेरा लंड अभी भी टाइट था! आंटी के मुंह में लालच आ गया और उन्हें वो मेरे लंड को थोड़ा थोडा किसी बहाने से टच करने लगी
शायद उन्होंने खुद को रोक लिया क्योंकि उनके पति घर पर थे और मेरे लंड से थोड़े बहुत छुआछूत के बाद वह अंदर जाकर अपने कमरे में सो गई!
जिंदगी में पहली बार था जब मेरे अलावा किसी ने मेरे लंड के तरफ हाथ लगाया हो! आंटी तो सो गई लेकिन मैं पूरी रात जगता रहा मैं अपनी आंखों के सामने जो कुछ भी हुआ उसको दिमाग में इमेजिन करके अपने लंड को हिलाने लगा!
अगले दिन जब मैं एग्जाम देकर घर वापस आया तब मैंने देखा कि आंटी के दरवाजे पर लॉक लगा हुआ है. फिर मैंने सोचा कि मैं अपने घर पर चला जाऊं, लेकिन मुझे बहुत तेज भूख लग रही थी लेकिन आंटी के घर के जस्ट सामने एक ढाबा था मै उस ढाबे पर गया और खाना ऑर्डर कर दिया!
मैंने अपना खाना खत्म कर लिया था और मैं ढाबे वाले को जब पैसे दे ही रहा था उतने में मैंने देखा कि आंटी किसी की बाइक पर बैठकर अपने घर की तरफ उतरी! आंटी उतर के सीधा अपने फ्लैट के ओर चली गई|
मैं जिस बंदे को पैसा दे रहा था उसने बोला देखो आ गई रंडी चुदकर!
उसके मुंह से यह बात सुनकर तो मैं एकदम हैरान हो गया था मैंने बोला रंडी मतलब?
तब उसने बोला अरे तुम्हें नहीं पता क्या? जो उसे बाइक पर इसको छोड़ कर गया है ना इसका यार ही तो है!
 मैंने बोला अच्छा मुझे नहीं पता मैं तो यहां पर पहली बार आया हूं, शायद दुकान वाला मुझे यह नहीं जानता होगा क्योंकि मैं हमेशा उस बिल्डिंग के पीछे वाले गेट से आता था क्योंकि वह मेरे घर के जादा पास पड़ता था!
खैर जो भी हो मैंने थोड़ी सी और खोजबीन शुरू की और उस आदमी से पूछा कि अच्छा यह यह यह लड़का रोज आता है क्या यहां पर?,
 उसने बोला रोज तो नहीं आता है लेकिन यह तब आता है जब इसकी दोनों लड़कियां स्कूल गई होती हैं! आता है बाइक पर और चले जाता है!

आंटी की काली चुत में मोटा लंड

फिर मैंने थोड़ा सा अनजान बनते हुए उसको बोला अरे क्या पता कोई रिलेशन में हो इसके, ऐसे थोड़ी ना किसी को आप यह बोल सकते हो!
उस दुकान वाले ने बोला लड़के का नाम आसिफ और औरत का नाम सुजाता, लड़के की उम्र करीब 25-26 साल की, लड़का कभी भी शाम को नहीं आता , इसके पति से नहीं मिलता, इसके बछो से नहीं मिलता !!!
 क्या रिश्ता हो सकता है दोनों में!
मैंने बोला कि अरे वह इसकी दोस्त का लड़का भी हो तो हो सकता है!
वह मेरी तरफ देखा और मुस्कुराया और फिर कहने लगा बेटा तुम अभी बहुत भोले हो यह लो तुम्हारे पैसे!
आगे उसने कहना जारी रखा इसके साथ एक और औरत भी तो आती है उसका पता नहीं क्या नाम है लेकिन वह दोनों लोग बैठ कर कभी कबार इसके साथ जाते थे!
‘पता नहीं कैसे-कैसे लोगों से हमारा भी पाला पड़ जाता है’ बोला और वह अपने काम में वापस लग गया
मैं वापस अपने घर की ओर चल पड़ा, अब मेरा पढ़ाई में बिल्कुल भी मन नहीं लग रहा था जब से मैंने उनकी चुदाई देखी थी मेरा बस उसी में ध्यान था और अब तो एक और नए राज़ से पर्दा उठ गया था कि आंटी का शायद कोई बाहर अफेयर भी है!
अब मैंने यह ठान लिया था कि मैं अपने घर पर कम से कम रहूंगा और उनके घर पर ही ज्यादा से ज्यादा रहूंगा ताकि मैं उनकी बातें सुन सकूं और जितनी जादा इंफॉर्मेशन हो सके इक्कठी कर सकू
मैंने आंटी के फोन में कॉल रिकॉर्डिंग वाली एप्लीकेशन इंस्टॉल कर दी जो कि कॉल आने पर अपने आप ही कॉल रिकॉर्ड सेव कर देती थी! जब सुजाता आंटी आस पास नहीं होती थी तब मै उनकी रिकॉर्डिंग सुनता था!
और आखिरकार ऐसी ही एक रिकॉर्डिंग मेरे हाथ में लग गई! जिसमें एक लड़का कल वापस आने की बात कर रहा था और वह बोल रहा था कि वह दोपहर में आएगा, लेकिन आंटी ने उसे मना करते हुए बोला नहीं तुम बुधवार को आना क्योंकि बुधवार को मेरा एग्जाम था मैं एग्जाम देने में बिजी रहूँगा और उनकी लड़कियां स्कूल गई होंगी उसमें वह दोनों अपने खेल को अंजाम देंगे!
खुशकिस्मती से वह मेरा लास्ट एग्जाम था वह भी फिजिकल एजुकेशन का तो मुझे जादा कुछ पढ़ने की जरूरत नहीं थी, हमेशा मैं एग्जाम सेंटर बस में जाता था जिसमें मुझे बस का इंतजार करना पड़ता था,
लेकिन उस वक्त मेरे पास पैसे पड़े थे तो मैंने बस से में जाकर मैंने यह सोचा कि जब मैं वापस आऊंगा’ तब मैं ऑटो कर लूंगा ताकि मैं जल्दी से जल्दी घर पहुंच सकूं!
मैं एग्जामिनेशन हॉल में गया और मात्र 1 घंटे के अंदर ही पेपर सबमिट कर कर वापस आ गया, और मेरी किस्मत उस दिन बहुत ही ज्यादा अच्छी थी क्योंकि आंटी उसके बाइक पर बैठकर निकल ही निकल ही रही थी!
मैंने ऑटो वाले को बोला कि भैया उस बाइक के पीछे पीछे लगा लो ऑटो वाले ने वैसा ही किया थोड़ी दूर बाद मैंने देखा कि वह किसी मकान के पास गए,
कमाल की बात तो यह थी कि वह एक स्लम टाइप का एरिया था यानी कि वहां के लोग कूड़ा कचरा और कबाड़ इकट्ठा करते थे आंटी उस जैसी जगह पर गई थी, फिर मैंने ऑटो वाले को पैसे दिए और मैं उस घर की तरफ बढ़ा जहां पर आंटी और वह लड़का गए थे! उनका पहला वाला ही घर था, उसके बगल में पूरा खाली प्लॉट था!

आंटी की मोटी गांड में घुसा लंड

मैंने घर के चारों तरफ मुआयना किया और मुझे नजर आया कि बाथरूम की तरफ से खिड़की थी, मैंने उस खिड़की से अंदर झांकने की कोशिश की मगर खिड़की में कुछ भी नहीं दिख रहा था!
तो मैंने थोड़ा सा और इधर-उधर देखने की कोशिश की पर मैंने देखा किस साइड की खिड़कियों में गत्ते लगे थे जिसकी वजह से अंदर कुछ भी नहीं दिख रहा था!
मैंने पास में पड़ी हुई एक लकड़ी की स्टिक उठाई और जिससे कि मैंने उस गत्ते में छेद कर दिया! मैंने कोने में खोदकर उसमें इतना बड़ा छेद कर दिया था कि मैं अपनी एक आंख से अंदर का सारा नजारा देख सकूं!
फिर मैंने अपने आँखों से अंदर का नजारा देखना शुरु किया और मेरे तो पैरों के तले जमीन खिसक गई, आंटी पूरी नंगी थी और वह लड़का सोफे पर बैठा हुआ था और आंटी उसके सामने डांस कर रही थी! आंटी अपनी गांड मटका मटका कर उस लड़के के सामने डांस कर रही थी और अपने अंग का प्रदर्शन कर रही थी!
अब आंटी डांस करते करते उस लड़के के ऊपर गिर गई और वह लड़के ने अपने दोनों हाथ उसके बूब्स पर लगा दिए, उस लड़के ने आंटी के गर्दन पर किस करना चालू किया और उनके बूब्स को दबाने लगा!
मैंने आंटी को कभी भी उस तरीके से नहीं देखा था लेकिन वह एकदम सेक्सी लग रही थी! उनके बूब लटके हुए नहीं थे उनके बूब एकदम चुस्त थे जिसको वह लड़का अपने हाथों से मसल रहा था और आंटियां अपने मुंह से सिसकारियां ले रही थी!

हॉट दूधिया आंटी की जबरदस्त चुदाई

 ‘उफ्फ्फफ्फ्फ़ अन्ह्ह्हह्ह धीरे धीरे…… अह्ह्ह्हह करीऊ’’
वह लड़का आंटी के बूब्स को ऐसे निचोड़ रहा था जैसे हम नींबू पानी बनाने के लिए नींबू को निचोड़ते हैं, अब उसने आंटी को पलटा और आंटी के बूब्स को अपनी तरफ किया और उसने आंटी के 1 बूब्स को अपने मुंह में भर लिया!
 आंटी ने अपनी आंखें बंद कर ली थी एंड सिस्कारिया ले रही थी, उनकी मनमोहक आवाज से पूरा कमरा गूंज रहा था,
वह लड़का भी आंटी के बाबले चूस रहा था मान कोई बच्चा जननी मां के दूध से अपना पेट भरता है! अब उस लड़के ने अपना एक हाथ आंटी की चूत के पास रखा और शायद उसने अपने दोनों उंगलियां आंटी की चूत में घुसा दी क्योंकि जैसे ही वह अपनी उंगलियां चूत के पास लेकर गया आंटी थोड़ी सी उचक गई!
आंटी आह आह उफ्फ्फ्फ़ अन्ह्ह की आवाज निकाल रही थी,, और अब मुझे साफ दिख रहा था कि उस लड़के ने आंटी की चूत में उंगली डालकर हिला रहा था!
वह अपनी उंगलियों का बहुत तेजी से आंटी की चूत पर लगा रहा था जिसकी वजह से आंटी बहुत ज्यादा गरम हो गई थी और आंटी ने 5 मिनट बाद अपना पानी छोड़ दिया था!
आंटी उसके ऊपर आराम से बैठ गई थोड़ी देर बाद आंटी फिर से खड़ी हुई और उस लड़के ने अपनी पेंट खोलना शुरू किया, जैसे ही आंटी ने उसका नीला कच्छा नीचे किया उसका 8 इंच का फंड बनाता हुआ लंड आंटी की आंखों के सामने आ गया!

आंटी सेक्स कहानी

आंटी ने उस लड़के की आंखों में आंखें डाल ते हुए बोला तेरे इसी औजार के चक्कर में तो मैं यहां पर खिंची चली आती हूं, मेरे पति से तेरा तो बहुत बड़ा है और मोटा भी है!
तो उस लड़के ने बोला अरे मोटा है तो चूसना जल्दी से, यह कहने की देर भर थी और आंटी ने अपने नाजुक होठों से उसके लंड को स्पर्श करना शुरू किया, आंटी के लाल लिपस्टिक से उसका लंड पूरा तरीके से लालम लाल हो गया था, आंटी अभी उसके ऊपर के सुपारे को ही अपने मुंह में भर रही थी!
मैं सोच भी नहीं सकता था आंटी जो हमारे घर पर आती थी इतनी शरीफ बनकर वह ऐसे रंडियों वाले काम करती होगी!
आंटी पूरी तसल्ली के साथ उस लड़के के लंड को अपने मुंह में अंदर बाहर कर रही थी, करीब 5 मिनट के बाद आंटी ने उसके लंड को पूरा अपने गले तक लेना शुरू किया, आंटी से उसका लंड नहीं लिया जा रहा था लेकिन चूत फाड़ के नशे में वह यह सब कर रही थी!
उसका लंड लेते लेते आंटी अपने एक हाथ से अपनी चूत को भी सहला रही थी! अब आंटी पहले तो बहुत धीमे-धीमे उसका लंड चूस रही थी लेकिन एक बार जब वह गर्म हो गई तब वह अपने सर को बहुत तेजी से ऊपर नीचे कर रही थी!
10 मिनट की लंड की चूत के बाद अब उस लड़के ने अपने पूरे कपड़े उतारने चालू किए, आंटी झट से सोफे पर लेट गई. लड़का पूरी तरीके से नंगा था और उसने आंटी के दोनों पैरों को हवा में उठा दिया जिससे कि उनकी चूत ऊपर की तरफ हो गई. उस पोजीशन में तो मैं उनकी चूत और अच्छे से देख पा रहा था उनकी चूत एकदम क्लीन शेव थी!

आंटी की चुत चुदाई कहानी

तब उस लड़के ने बोला यार तू चूत पर बाल तो रख लिया कर ऐसा लगता है कि कोई फिरंगी रंडी चोद रहा हूं,
आंटी बोली मेरे पति को क्लीन शेव ही पसंद है..
लड़का बोला कुछ कर तो पता नहीं है तेरा पति तेरे मुंह में ही झाड़ के रह जाता है तो चूत को क्लीन सेव क्यों रखता है.. उसको मना कर दिया करो कि ज्यादा शेव करूंगी तो चूत पर घाव हो जाता है!
आंटी बोली चल अब तू ज्यादा अपना ज्ञान मत चोद मुझको चोद, लेकिन वह लड़का आंटी को तड़पाने में लगा हुआ था उसने अपना जीभ आंटी की चूत के मुहाने पर रख लिया, आंटी की चूत के फंको को अपनी जीभ से सहला रहा था, आंटी मानो सोफे पर मचल रही थी! दोस्तों antarvasna kahani पढ़ने धन्यवाद।
पहले तो वह लड़का आंटी की चूत को ऊपर ऊपर से ही चूस रहा था लेकिन अब उसने अपना पूरा मुंह आंटी की चूत के अंदर दबा दिया! वो तो चूत को ऐसे खा रहा था मानो बगीचे में से कोई बच्चा आम खाता है!
आंटी जोर जोर से सिसकारियां ले रही थी उनकी सांसो की गति बढ़ गई थी, अब उस लड़के ने अपने हाथ को भी काम में लिया और अपनी दो उंगलियां आंटी की चूत में वापस से पेलने लगा!
आंटी बहुत ज्यादा गरम हो गई थी और उसकी उंगली के खेल को बर्दाश्त नहीं कर पाई और थोड़ी देर में दुबारा से झड़ गई!
जब आंटी दुबारा से झड गई हो तब उसने अपने लंड को दुबारा मसलना शुरू किया, उसका लंड फिर से एकदम तन गया था और अब उसने अपने लंड की सुपारी पर थोड़ा सा थूक मला और आंटी की चूत के मुहाने पर रख दिया,
 क्योंकि आंटी की चूत बहुत ज्यादा गीली हो रखी थी इसलिए हल्का सा धक्का मारने पर ही लंड का आधा एक साथ चाची की चूत में समा गया
आंटी की थोड़ी सी चीख निकल गई, आंटी उसको बोलिए मैं तेरे से रेगुलर चुदती हूं लेकिन पता नहीं क्यों मुझे ऐसा लगता है कि हर बार तेरा लंड और ज्यादा बड़ा और मोटा हो रहा है!
तब उस लड़के ने बोला हां जब तुम जैसी दोनों रंडियां मेरे पास रहेगी तो मेरा लंड तो रोज का रोज बढ़ेगा ही पड़ेगा, पैसे कहां है मेरी प्यारी दूसरी वाली!
आंटी ने उसकी बात को अनसुना कर दिया और उसके दोनों गांड पर अपने हाथ लगाए और उसकी गांड को अपनी चूत की तरफ खींचने लगी, इन सब बातों को भूल कर अब वह लड़का भी आंटी की चूत में मशगुल हो गया! वह अपनी पूरी रफ्तार पकड़ने लगा उसकी कमर जैसे एके-47 हो गई थी! 1 सेकंड में 2 धक्के इतनी रफ्तार से उसकी गाड़ी चल रही थी!
आंटी के बड़े-बड़े दो खरबूज आगे पीछे हो रहे थे देखकर एकदम मजा आ गया और एक बार फिर मेरा हाथ अपने कछे की और बढ़ गया!

आंटी अन्तर्वासना कहानी

लंड और चूत के समागम से इतनी बढ़िया आवाज निकल रही थी मानो की सुर ताल छेड़ दिया हो! उसके हिलती कमर , चूत पर लगता लंड और आंटी के मुंह से निकलती हुई वह मादक आवाज, ऐसा लग रहा था मानो कोई संगीत समारोह चल रहा हो!
वह लड़का तो अपना पूरा जोर भी नहीं लगा रहा था लेकिन जितना भी जोर लगा रहा था आंटी को उसमें बहुत ही ज्यादा आनंद प्राप्त हो रहा था, अब उस लड़के ने आंटी को थोड़ा सा नीचे किया और उनके दोनों पैर अपने कंधे की और रख लिए!
और उसने अपने दोनों हाथ आंटी के बाजू के आस पास रख दिए! हम अपने अच्छी भली पोजीशन में आया और उसने पूरी जान से अपने लंड आंटी की चूत में डालना शुरू किया! आंटी की चिक्क निकल रही थी बहुत तेज तेज!
वो लड़का आंटी को किस भी कर रहा था और अपने लंड से आंटी की चूत की गहराई को भी नाप रहा था, एक बार फिर से उसने अपनी स्पीड बढ़ाई और आंटी की जोरदार चुदाई करने लगा!
शायद वो झड़ने वाला था इसलिए उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया!
बाहर निकालने के बाद उसने अपना लंड रंडी की चूत पर दोबारा से रगड़ना शुरू किया! अब उसने आंटी को खड़ा किया और वह खुद सोफे पर बैठ गया और आंटी को उसके लंड पर बैठने के लिए बोला!
मैंने आज तक जितनी भी इंडियन ब्लू फिल्म देखी थी उसमें मैंने बस यही देखा था कि लड़की आराम से नीचे लेटी होती है और लड़का ही सारा काम करता है लेकिन यहां पर तो एकदम ब्लू फिल्म वाला हिसाब था, बहरहाल अब वह लड़का नीचे की ओर था और आंटी उसके ऊपर बैठ गई थी उन्होंने अपना हाथ नीचे किया और उसके लंड को अपनी चूत पर सेट किया!
अब आंटी धीमे-धीमे अपनी चूत को उसके लंड पर ऊपर नीचे करने लगी, आंटी की पोजीशन ठीक ही थी मैं उनको साइड से देख पा रहा था! शुरू में तो आंटी बहुत धीमे-धीमे ऊपर नीचे हो रही थी लेकिन एक बार जब आंटी ने गति पकड़ी तो उनके बूब्स जो इतने बड़े-बड़े थे वह हवा में गोते खाने लगे!
पच पच की आवाज से कमरा एक बार फिर से गूंज गया था, अब उस लड़के ने भी आंटी की मदद करनी चाही, उसने आंटी की गांड को पकड़ा और उठा उठा कर अपने लंड पर जोर जोर से पटकने लगा! आंटी जोर जोर से सिस्कारिया ले रही थी!
इस पोजीशन में उन्होंने कम से कम 6 या 7 मिनट तक की लगातार चुदाई की थी, एक बार फिर से उस लड़के ने आंटी को हटा दिया और आंटी को उसका लंड चूसने को बोला! आंटी ने वैसा ही किया उसके लंड को एक बार फिर से अपने मुंह में भर लिया!
वह लड़का भी मिशनरी पोजीशन में आ गया है यानी कि उसने अब अपने पैर उठाकर आंटी के कंधों पर रख दिए और आंटी उसकी गांड का छेद चाट रही थी!
मुझे तो देखकर ही अजीब लग रहा था मैंने सोचा कि आंटी सब कैसे कर सकती हैं, लेकिन फिर भी मैंने आगे वह सब देखना जारी रखा!

आंटी चुत में अपना माल झाड़ा

थोड़ी देर की गांड चूसने के बाद शायद वो लड़का फिर से फुल चार्ज हो गया और उसने आंटी को घोड़ी बनाया, और उसकी गांड में थूक मलने लगा!
आंटी डरती हुई सीधी हो गई और बोली प्लीज़ गांड में नहीं, वह लड़का बोला अरे पागल मुझे पता है मैं गांड में नहीं करूंगा लेकिन बस उंगली डालूंगा!
आंटी डरी सहमी बोली नहीं तुम्हारा कुछ नहीं पता पहले तुम मेरी चूत में लंड डालो, वह लड़का बोला कि यार मैंने तुम्हारी इतनी चूत मरी है तो क्या मुझ पर ट्रस्ट नहीं है, आंटी बोली नहीं है मैं जानती हु की तू कितना बड़ा कुत्ता है!
और दोनों लोग हंसने लगे इसी हसी मुस्कान में आंटी की चीख निकल गई जब अचानक उस लड़के ने अपना लंड पूरा का पूरा आंटी की चूत में उड़ेल दिया, और जैसे ही उसने आंटी की चूत में लंड लगाया उसी वक्त से वह अपनी फुल स्पीड में आ गया था! अब तो आंटी की हालत बहुत खराब हो गई थी और उसने अपने एक हाथ से आंटी की गांड के छेद में भी उंगली करना शुरू कर दिया!
शायद आंटी अपने दोनों छेदों में सेक्स महसूस करने की वजह से शायद एक बार फिर से झड़ गई थी, अब जब आंटी झड़ गई तो थोड़ी शांत हो गयी और उनका सीना अब सोफे पर उन्होंने अब टीका लिया जिससे कि उनकी गांड और उभर कर के उस लड़के के सामने आ गई!
 उसने दोनों हाथ से आंटी की गांड को पकड़ा और इससे आंटी की चूत पर चोट मारने लगा, जैसे मानो कोई तबला वादक के हाथ तबले पर चलते हैं उस तरीके से उसका लंड आंटी की चूत में अंदर बाहर हो रहा था
और वो आंटी की गांड पर लगातार चांटे मरे जा रहा था मैं आंटी की गांड एक साइड देखा वो पूरी तरीके से लाल हो गई थी, थोड़ी देर बाद उस लड़के ने बोला कि मैं आने वाला हूं उसने अपना लंड आंटी की चूत में से निकाला और आंटी को वापस उसके लंड के तरफ किया, आंटी ने बोला तुम मेरे मुंह में छोड़ दो लेकिन उसने बोला ना मुंह में नहीं जा दूंगा मैं तेरे मुंह पर माल गिरा लूंगा!
आंटी कुछ बोल पाती उससे पहले ही वह लड़का डिस्चार्ज हो गया उसने अपना सारा माल आंटी के मुंह पर ही गिरा दिया!
आंटी उसको बोला कि तेरे में यह क्या अजीब सी चुल है … बाकी मेरा पति तो मेरे मुंह में ही डाल देता है, लेकिन एक तू ही है जो मुंह में झाड़ता नहीं है बल्कि मुंह पर ही माल गिरा देता है!
तो वो लड़का बोलता है कि इससे मुझे यह लगता है कि तू सिर्फ मेरी रंडी है, तेरे शरीर पर मेरा अधिकार है! जो भी उसके लंड से माल टपक रहा था आंटी ने अपनी जीभ से उसको चाट कर साफ़ कर दिया!
उस लड़के ने आंटी की करीबन 1 घंटे की चुदाई और की होगी जिसके अंदर आंटी अलग-अलग पोजीशन में चुदी थी! अब आंटी ने अपना फोन उठाया और उसमें नजर डाली और बोली ‘अई मां आज तो लेट हो गई मैं घर जाती हूं जल्दी, मेरी लड़कियां आने वाली होंगी!’
मैं तेरे पूरे खानदान में जितनी भी औरतें हैं सबको अपने नीचे ले लूंगा, यह सब कहने के बाद आंटी ने अपने कपड़े पहने और वह उस जगह से निकल गई! मै सब कुछ सुना और वह से निकल गया
अगर आपको ये स्टोरी पसंद आया है तो मुझे इस ईमेल आईडी पर मेल कर सकते हैं

error: Content is protected !!